पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:कस्बों में अिधकांश पैथोलॉजी लैब बिना रजिस्ट्रेशन के संचालित, कार्रवाई नहीं

वीरपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिम्मेदार बोले- फर्जी लैब संचालित करने वालों पर की जाएगी कार्रवाई

जिले में 100 पैथोलॉजी लैब संचालित हो रही हैं। इसमें लगभग 2 पैथालॉजी लैब के रजिस्ट्रेशन हैं, शेष लैब बिना पंजीयन के संचालित हो रही हैं। लेकिन इनका संचालन रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग गंभीर नहीं है। इन पैथालॉजी लैब का स्वास्थ्य विभाग में पंजीयन भी नहीं है। जबकि नर्सिंग होम एक्ट के तहत विभाग में लैब का पंजीयन होना जरूरी है। लेकिन अवैध तरीके चल रहे पैथोलॉजी सेंटर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं ब्लड कलेक्शन की आड़ में इन पैथाेलॉजी में सभी प्रकार की जांचें की जा रही हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ठोस कदम नहीं उठाए जाने से लैब सेंटर मालिकों के हौंसले बुलंद हैं। अकेले वीरपुर क्षेत्र में भी 15 से अधिक पैथोलॉजी लैब संचालित हो रहे हैं। इसके अलावा श्यामपुर, रघुनाथपुर और विजयपुर में भी खुलेआम खून की जांच करने वाली इन पैथोलॉजी लैब का संचालन किया जा रहा है। बिना रजिस्ट्रेशन संचालित इन पैथोलॉजी लैब में सालों से डेंगू, मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की जांच की जा रहीं हैं। कई बार इन पैथोलॉजी लैब की जांच गलत आने पर स्वास्थ्य विभाग में शिकायत भी की गई है। जिस पर किसी अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया है। खास बात तो यह है कि इन पैथोलॉजी लैब रिपोर्ट पर किसी पैथोलॉजिस्ट का नाम तक नहीं हैं। बावजूद इसके ये पैथोलॉजी लैब संचालक धड़ल्ले  से बिना कार्रवाई के डर के अपनी पैथोलॉजी लैब संचालित करते नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि हाईकोर्ट और प्रदेश शासन के आदेश के तहत माह में एक बार पैथोलॉजी की जांच करना अनिवार्य है, लेकिन इसके बाद भी विभाग द्वारा आज तक जिलेभर की पैथोलॉजी लैब पर जाकर जांच नहीं की जा रही है। 

झोलाछाप लिखते हैं, जांच इन पैथोलॉजी लैब पर कराना मजबूरी 

अधिकतर पैथोलॉजी लैब झोलाछाप डॉक्टरों के द्वारा संचालित की जा रही हैं। क्योंकि ये झोलाछाप डॉक्टर कमीशन का मोटा हिस्सा झोलाछाप डॉक्टरों को दिया जाता है। झोलाछाप डॉक्टर भी किसी भी बुखार के मरीज को तत्काल डेंगू और मलेरिया की जांच लिखकर पैथोलॉजी लैब पर भेजते हैं। इन पैथोलॉजी लैब संचालकों के द्वारा एक-एक मरीज से जांच के एवज में तीन गुना तक पैसे वसूल कर लिए जाते हैं। प्रतिदिन हो रही 100 से 150 जांच: नगर में संचालित लैबों पर 100 से 150 जांच हो रही हैं। वहीं जांच को लेकर 150 से 700 रुपए तक पैसा लिया जा रहा है। इसके अलावा संचालक मरीजों को रसीद तक उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। इस वजह से मरीज काफी परेशान हैं। वहीं स्वास्थ्य प्रबंधन कार्रवाई नहीं कर रहा है।

बिना रेडियोलॉजिस्ट के चलाए जा रहे एक्स-रे सेंटर 
जिले में बिना रेडियोलॉजिस्ट डॉक्टर के एक्सरे सेंटर का संचालन भी हो रहा है। वीरपुर, विजयपुर और कराहल के अंतर्गत संचालित होने वाले सभी एक्स-रे सेंटर पर मरीजों के एक्स-रे किए जा रहे हैं। लेकिन एक भी एक्स-रे सेंटर पर रेडियोलॉजिस्ट डॉक्टर ही नहीं हैं। इसके बाद भी यह धड़ल्ले से संचालित हो रहीं हैं। यहां बता दें कि जिले में एक मात्र रेडियोलॉजिस्ट डॉक्टर हैं। जो कि जिला अस्पताल में पदस्थ हैं। इनके अलावा जिले में एक भी रेडियोलॉजिस्ट डॉक्टर नहीं हैं। ऐसे में एक्स-रे सेंटर भी फर्जी तरीके से संचालित हो रहे हैं। 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें