पहल:बारिश से क्षतिग्रस्त सड़क को ग्रामीणों ने सुधारा

श्याेपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रशासन के भरोसे बैठने की बजाए लाेगाें ने खुद मेहनत से मुश्किलें आसान करने की ठानी

बाढ़ की विभीषिका झेल रहे लाेग जिला प्रशासन के भराेसे बैठने के बजाय खुद ही बाढ़ से बिगड़ी स्थिति पर काबू पाने की काेशिश में लगे हुए हैं। लाेगाें की मेहनत की बदाैलत तीन दिनाें से बंद तलावड़ा-चंद्रपुरा मार्ग पर शनिवार काे आवाजाही शुरू हाे गई। बारिश से क्षतिग्रस्त सड़क काे गांव के ही कुुछ जागरूक लाेगाेें द्वारा चलने लायक बनाने से यह काम चलाऊ आवागमन संभव हुआ है। भारी बारिश के दाैरान तलावड़ा-चंद्रपुरा राेड कई जगह कट गई थी। सड़क खराब हाेने से तलावड़ा सहित आसपास बसे टाेले और मजराें के ग्रामीणाें काे खासी दिक्कताें का सामना करना पड़ रहा है। कई घराें में दैनिक जरूरत का सामान खत्म हाेने के बावजूद लाेग शहर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। श्याेपुर-बारां हाईवे पर ग्राम चंद्रपुरा से तलावड़ा की तरफ मुड़ते ही टूटी सड़क दिखाई देती थी।

मंगल अाैर बुधवार काे हुई बारिश के बाद कई जगह सड़क कटने के कारण गुरुवार सुबह से रास्ता बंद हाे गया। तीन दिन से सड़क की मरम्मत ताे दूर संबंधित विभाग का अधिकारी-कर्मचारी माैका देखने भी नहीं पहुंचा। दिनाेंदिन लाेगाें की मुसीबत बढ़ते देख तलावड़ा गांव के जागरूक लाेगाें ने प्रशासन के भराेसे बैठने के बजाय खुद ही पहल करने का बीड़ा उठाया।

शुक्रवार और शनिवार काे इन लाेगाें ने श्रमदान से क्षतिग्रस्त सड़क काे राहगीराें के चलने लायक बना दिया। सड़क की काम चलाऊ मरम्मत के कार्य में कुछ किसानाें ने अपने ट्रैक्टर लगाए ताे किसी ने अपने हाथाें से गड्ढाें में पत्थर भरने का काम किया। इसमें एडवोकेट राकेश सिंह,हरपाल सिंह, विशाल सिंह ने सक्रिय सहयाेग किया।

खबरें और भी हैं...