• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Sheour
  • Corona positive again after 35 days, 5 patients found so far, not a single travel history could be traced to administration, big question: Where did the virus come from?

कोरोना का कहर / 35 दिन बाद फिर मिला कोरोना पॉजिटिव, अब तक मिले 5 मरीज, एक की भी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं खंगाल सका प्रशासन, बड़ा सवाल: कहां से आया वायरस

X

  • जिला अस्पताल के आइसोलेशन में 4 दिन से भर्ती था संक्रमित युवक
  • युवक के 5 परिजन के सैंपल लेकर सभी को किया क्वारेंटाइन

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 08:00 AM IST

श्योपुर. जिले में 35 दिन बाद फिर कोरोना संक्रमित मरीज मिला है। शुक्रवार की देर शाम उसकी रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को मिली। युवक व उसके परिजन ने स्वास्थ्य विभाग से उनकी कोई भी ट्रैवल हिस्ट्री होने से इनकार कर दिया है। ऐसे में खड़ा सवाल यह है कि आखिर श्योपुर में मिले कोरोना वायरस का संक्रमण आया कहां से, क्योंकि अब तक कोरोना संक्रमित मिले मरीजों में से किसी की भी ट्रैवल हिस्ट्री प्रशासन को नहीं मिल सकी है।
16 अप्रैल के बाद से जिले में कोई कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला था। ऐसे में जिला ग्रीन में आ गया था और शहर पूरी तरह से खुल चुका था। शुक्रवार को चार लोगों की कोरोना सैंपल रिपोर्ट आई, जिसमें एक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाया गया। जावदेश्वर निवासी अनिल मीणा (24) को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। उक्त युवक बीते चार दिन से जिला अस्पताल में भर्ती था। इसके साथ ही उसके परिवार के सभी 5 लोगों के सैंपल भी लिए गए हैं और उन्हें भी क्वारेंटाइन कर दिया गया है। प्रशासन युवक के संक्रमित होने के बाद उसकी व उसके परिजन की ट्रैवल हिस्ट्री खंगालने में जुट गया है। उधर शुक्रवार को ही कोल्ड ओपीडी में आए दो और लोगों के सैंपल लिए गए थे जिन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया है।

पसली में पानी भर गया था, इसलिए इलाज कराने अस्पताल में था भर्ती
जावदेश्वर गांव के संक्रमित मिला युवक अनिल मीणा पिछले 15-20 दिनों से बीमार था। उसे पसली में तकलीफ के चलते चार दिन पहले जिला अस्पताल इलाज के लिए ले जाया गया था जहां डॉक्टर ने चेकअप के बाद उसमें कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर सैंपल लिया। इसकी रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव पाई गई। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने पूछताछ की तो युवक व उसके परिजन ने बताया कि वे न तो कहीं बाहर गए न मरीज कहीं गया। बीमारी के चलते वह लंबे समय से घर में ही था। अब प्रशासन गांव में पहुंचकर इसकी पड़ताल में जुट गया है कि युवक के संपर्क में गांव से कितने लोग आए या फिर यह कहीं बाजार गए थे। इस बीच प्रशासन को यह सूचना भी मिली कि उक्त युवक ग्वालियर से लौटा है पर, इसकी पुष्टि नही हो सकी

पहले मिले चार कोरोना संक्रमित मरीजाें की भी नहीं मिली थी ट्रैवल हिस्ट्री
जिले में सबसे पहला कोरोना संक्रमित हसनपुरा हवेली निवासी रसीद खान मिला था, इसके बाद उसकी बेटी शबनम फिर पड़ोसी इलियास और हसनपुरा हवेली का ही रफीक भी संक्रमित मिला। रफीक की कोरोना रिपोर्ट 16 अप्रैल को कोरोना संक्रमित आई थी लेकिन इनमें से किसी की भी कोई ट्रैवल हिस्ट्री निकलकर सामने नहीं आई थी। अब उक्त चारों मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर पर रह रहे हैं।

ग्रामीणों में चर्चा... अप्रैल में जयपुर से लौटा था संक्रमित युवक का भाई
स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार अप्रैल में लॉक डाउन के चलते राजस्थान के जयपुर से संक्रमित मरीज का भाई गांव लौटा था। लॉक डाउन के 15 दिन बाद वह गांव पहुंचा था। संक्रमित युवक के पिता खेती करते हैं और युवक घर में ही रहता है। हालांकि भाई के जयपुर से आने की पुष्टि प्रशासन की ओर से नहीं हो सकी है, सिर्फ यह चर्चा ग्रामीणों के बीच में ही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना