पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिला अस्पताल को मिली सीटी स्कैन मशीन:इसी महीने शुरू होने की उम्मीद, 750 रु. में होगी जांच

श्योपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल के कक्ष में मरीजों की जांच के लिए सीटी स्कैन मशीन सेट करता कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
जिला अस्पताल के कक्ष में मरीजों की जांच के लिए सीटी स्कैन मशीन सेट करता कर्मचारी।
  • अब सीटी स्कैन कराने के लिए मरीजों को राजस्थान जाने का झंझट होगा खत्म

जिला अस्पताल में सोमवार को सीटी स्कैन मशीन आ गई। अस्पताल में पहले से निर्धारित कक्ष में टेक्नीशियनों ने मशीन काे सेट भी कर दिया है। अब मरीजाें काे सीटी स्कैन कराने के लिए राजस्थान नहीं जाना पड़ेगा। जिला अस्पताल में सीटी स्कैन के लिए सिर्फ 750 रुपए देने हाेंगे। इससे मरीजों के रुपए और समय दोनों की बचत होगी। जिला अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन की जरूरत सबसे अधिक कोरोना की दूसरी लहर में महसूस हुई। दूसरी लहर में कोविड जांच निगेटिव आने पर भी सीटी स्कैन में संक्रमण सामने आ रहा था लेकिन जिले में सीटी स्कैन की सुविधा ही नहीं थी। ऐसे में मरीजों को मजबूरी में राजस्थान के सवाई माधोपुर व कोटा शहरों में या फिर ग्वालियर जाना पड़ रहा था।

इससे लोगों को न सिर्फ समय व पैसा खर्च हुआ बल्कि वे आने-जाने में परेशान भी हुए। अब अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन मिलने से फेंफड़ों के संक्रमण की भी यहीं जांच हो सकेगी। अब जिले में कोविड की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी भी लगभग पूरी हो चुकी है क्योंकि सीटी स्कैन मशीन आने के साथ ही 200 से ज्यादा बैड पर ऑक्सीजन व दो ऑक्सीजन प्लांट भी तैयार हाे चुके हैं।

2014 में हुई थी मशीन की घोषणा, तब से था इंतजार
साल 2014 में तत्कालीन सांसद अनूप मिश्रा ने आयुष्मान भारत योजना के शुभारंभ के दौरान जिला अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन देने की घोषणा की थी। यह मांग तब लोगों ने उनसे की थी लेकिन उनके कार्यकाल में यह सीटी स्कैन मशीन न राज्य सरकार ने स्वीकृत की न केंद्र सरकार ने। इसके बाद कोरोना की दूसरी लहर में सीटी स्कैन के लिए लोगों को राजस्थान जाने के साथ ही परेशान होना पड़ा। ऐसे में लोगों ने तेजी के साथ इसकी मांग की। इस पर राज्य सरकार ने जिला अस्पताल को एक सीटी स्कैन मशीन स्वीकृत की। 8 महीने के इंतजार के बाद मशीन मिल गई।

राजस्थान में वसूले जाते हैं 4 से 5 हजार रुपए, यहां सिर्फ 750 में होगी जांच
जिला अस्पताल में सीटी स्कैन कराने की कोई व्यवस्था न होने के चलते श्योपुर के लोगों को राजस्थान के सवाई-माधौपुर व कोटा दौड़ लगानी पड़ती थी। यहां राजस्थान में सीटी स्कैन के उनसे 4-5 हजार रुपए वसूले जाते थे लेकिन अब अस्पताल में मशीन उपलब्ध होने से न तो लोगों को कोटा व सवाई-माधौपुर जाना होगा और न ही 4-5 हजार रुपए खर्च करने पड़ेंगे। यहां अस्पताल में महज 750 रुपए में जांच हो जाएगी और पैसों के साथ उनका समय भी बचेगा। साथ ही मरीजों को समय पर इलाज मिलेगा।

अब वायरल फीवर का प्रकोप, तीन गुने मरीज
जिले में अब लोगों को वायरल फीवर जकड़ रहा है। ऐसे में मरीज के हाथ-पैरों में दर्द के साथ ही सर्दी-खांसी भी हो रही है। बीते महीने में बुखार के मरीजों की संख्या प्रतिदिन करीब 200 तक आ रही थी, वही अब यह मरीज बढ़कर 600 तक पहुंच गए हैं। डॉक्टर के अनुसार इस बार वायरल भी लंबा चल रहा है, पहले यह तीन-चार दिन में ठीक हो रहा था। लेकिन अब कई मरीज 15 दिनों बाद जाकर स्वास्थ्य हो पा रहे है। ऐसे में अस्पताल में लगातार भीड़ बढ़ रही है। मरीजों को देखते हुए अस्पताल प्रबंधन भी व्यवस्थाएं कर रहा है।

कैंसर और इंटरनल ब्लीडिंग आसानी से चल सकेगी पता
सीटी स्कैन मशीन जिला अस्पताल को मिलने के बाद अब इस मशीन से इससे कई तरह के लाभ मरीजों को होंगे। जैसे सड़क हादसे में हेड इंजरी का पता लगाने का काम सीटी स्कैन मशीन करती है। इसके अलावा टूटी हुई हडि्डयों, ट्यूमर (कैंसर), इंटरनल ब्लीडिंग और फेंफड़ों के संक्रमण की जांच भी सीटी स्कैन मशीन करती है जो अब आसानी से हो सकेगी।

कोरोना संक्रमण के दौरान फेंफड़ों के संक्रमण का पता लगाने के लिए सीटी स्कैन मशीन की जांच की आवश्यकता ही सबसे ज्यादा सामने आई थी। इसके अलावा कई अन्य जांचों में भी अब आसानी होगी और डॉक्टर भी मरीजों को इलाज सही से कर सकेंगे, क्योंकि उन्हें बीमारी की अब पूरी वजह पता होगी।

अस्पताल में अब जल्द शुरू करेंगे सीटी स्कैन मशीन
सीटी स्कैन मशीन जिला अस्पताल को मिल चुकी है जिसे सेट किया जा रहा है। इसका जल्द ही शुभारंभ करेंगे। इसके लिए टेक्नीशियन की भी ट्रेनिंग कराई गई है। -डॉ. बीएल यादव, सीएमएचओ, श्योपुर

खबरें और भी हैं...