पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Sheour
  • Hartalika Teej On 9th September, Lakshmi Yoga Being Made With Varaha Jayanti, Vishnu Sahasranama Recitation Will Be Fruitful

नक्षत्र:9 सितंबर को हरतालिका तीज, वराह जयंती के साथ बन रहा लक्ष्मी योग, विष्णु सहस्त्रनाम पाठ होगा फलदायक

श्योपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हस्त नक्षत्र बुधवार को दोपहर बाद 3:55 बजे से शुरू होकर दोपहर 2:30 बजे तक रहेगा

हरतालिका तीज के साथ भगवान श्री वराह जयंती 9 सितंबर गुरुवार को मनाई जाएगी। भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को हस्त नक्षत्र में हरतालिका तीज का व्रत सौभाग्यवती महिलाएं भगवान शिव-पार्वती की विशेष पूजा के साथ करती हैं। पं. दिनेशचंद्र सुरोठिया ने बताया कि इस वर्ष हरतालिका तीज गुरुवार के दिन है और हस्त नक्षत्र भी बुधवार 3:55 बजे से प्रारंभ होकर गुरुवार को दोपहर 2:30 बजे तक रहेगा।

इस समय चंद्रदेव कन्या राशि में भ्रमण करेंगे के साथ ही आकाश मंडल में मंगल, बुध, चंद्र एक साथ रहेंगे, मंगल चंद्र की युति से लक्ष्मी योग की निष्पत्ति हो रही है। सूर्य, शुक्र, शनि अपनी-अपनी राशियों में भ्रमण करने से इस व्रत का महत्व और अधिक बढ़ जाता है। भगवान वराह का अवतार भी आज के दिन हुआ था, जिससे भगवान वराह जयंती भी गुरुवार के दिन मनाई जाएगी।

श्रद्धालुओं को भगवान वराह या विष्णु भगवान का पूजन कर व्रत व उपवास के साथ विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए। हरतालिका तीज को महिलाएं निराहार रहकर शाम के समय स्नान करके शुद्ध वस्त्र धारण कर पार्वती और शिव की मिट्टी की प्रतिमा बनाकर पूजन की संपूर्ण सामग्री से भगवान शिव एवं पार्वती का पूजन करती हैं। सुहाग की पिटारी में सुहाग की सारी वस्तुएं रखकर माता पार्वती को चढ़ाने का विधान इस व्रत का प्रमुख लक्ष्य है। जिसके फलस्वरूप स्त्रियां को सौभाग्य प्राप्त होता है और माता पार्वती के समान सुख पूर्वक पति रमण करके शिवलोक को प्राप्त करती हैं।

गुरु कुंभ में कर रहे भ्रमण, जातकों पर होगा प्रभाव
इधर 6 अप्रैल से 13 सितंबर के मध्य गुरु कुंभ राशि में गोचर कर रहे हैं। 20 जुलाई से वक्री अवस्था में भ्रमण करते हुए फिर 14 सितंबर को मकर राशि में वापस आ जाएंगे। इसके बाद आगामी 20 नवंबर 2021 को यह अगली राशि कुंभ में प्रवेश कर जाएंगे। इस प्रकार एक वर्ष तक वक्री मार्गी अवस्था में गोचर करते हुए जातकों पर सर्वाधिक प्रभाव डालेंगे। 20 नवंबर को दोपहर 2.55 बजे अपनी राशि से निकलकर मकर राशि में जाएंगे।

खबरें और भी हैं...