पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ईदुलजुहा:गले मिलकर नहीं, दिल पर हाथ रख दूर से कहा- ईद मुबारक

श्योपुरएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ईद की विशेष नमाज पढ़ने ईदगाह पहुंचे शहरकाजी।
  • सादगी से मनाई बकरीद, मोमिनों ने घर से ही मांगी अमन-चैन की दुआ
  • साेशल डिस्टेंसिंग का पालन: 5 हजार की जगह मैदान में सिर्फ 4 लोग और हो गई ईद की नमाज
Advertisement
Advertisement

न घाेड़ा और न जुलूस... सिर्फ दाे पुलिसकर्मी के साथ शहरकाजी ऐेतिहासिक मैदान पर पहुंचे, मुकर्रर वक्त पर काजी ने अल्लाह हाे अकबर कहकर केवल चार लाेगाें के साथ ईद की विशेष नमाज पढ़ी। यह नजारा था शनिवार काे शहर में मुस्लिम समाज के ईदुलजुहा त्योहार के मौैके पर 15 हजार क्षमता वाले ईदगाह परिसर में विशेष नमाज पर दिखाई दिया।

कोरोना महामारी के साये में बकरीद सादगी से मनाई गई। माेमिन बंधुओं ने अपने घर पर ही खुदा के सजदे में सिर झुकाकर अमन- चैन की दुआ मांगी। परिजन ने ही कुर्बानी की रस्म निभाई। शहर की सभी मुस्लिम बिरादरी पंचायतों की 16 मस्जिदों में भी हाफिजों की सदारत में सिर्फ 4-4 लोगों को ही ईद की विशेष नमाज अदा करने का मौका मिला। वक्फ इंतजामिया कमेटी की ओर से जलसे भी नहींं हुए। यहां तक साेशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लाेगाेें ने आपस में गले मिलने के बजाय अपने दिल पर हाथ रखकर एक दूसरे को ईद की मुबारक कहा। मोबाइल फाेन पर मुबारकबाद का सिलसिला दिनभर चलता रहा।

काेराेना ने खुशियों काे सीमा में बांधा: कुरैशी

ईदगाह मैदान पर विशेष नमाज के मौैके पर शहरकाजी अतीक उल्ला कुरैशी ने कहा कि कोरोना महामारी ने लाेगाें के आपस में खुशियां बांटने पर सीमाओं की बंदिश लगाई है,इन बंदिशों ने हमें हर संघर्ष के बीच हक ईमान के रास्ते पर चलते हुए खुदा की इबादत करने का सबक सिखाया है। उन्होंने कहा कि तमाम संकट और संघर्षों के बीच इदुलफितर के बाद ईदुलजुहा का पर्व खुशी के साथ दुख-दर्द बांटने का पैगाम लेकर आए ।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज रिश्तेदारों या पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा होगी। आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। कहीं फंसा हुआ पैसा भी आज मिलने की संभावना है। इसलिए उसे वसूल...

और पढ़ें

Advertisement