कोरोना काल / मुरैना में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ा तो श्योपुर में लोगों की चिंता बढ़ी, क्योंकि श्योपुर में मुरैना से ज्यादा आवाजाही

X

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

श्योपुर. चंबल संभाग के मुरैना जिले में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। वहां 405 काेराेना पाॅजिटिव मिलने के बाद श्योपुर के लोगों की चिंताएं भी बढ़ गई है, क्योंकि वर्तमान में श्योपुर में सिर्फ मुरैना जिले से ही सबसे ज्यादा लाेगों आवाजाही बनी हुई है। ऐसे में लोगों को कोरोना का डर सता रहा है कि मुरैना से श्योपुर में कोरोना की एंट्री न हो जाए। वहीं कलेक्टर ने मंगलवार को आदेश जारी कर मुरैना से आने जाने वाले वाहनों को सेनेटाइज करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही जिले में मुरैना जिले की सीमा पर स्वास्थ्य दल तैना किया जाएगा, जो हर आने-जाने वाले की जांच करेगा। जिले में अब तक कोरोना के 75 मरीज सामने आए हैं। इनमें से 60 स्वस्थ्य होकर घर पहुंच गए हैं। जबकि दो मरीजों की मौत होने के साथ यहां 13 एक्टिव केस बचे हैं। इन एक्टिव केसों में शहर के अलावा बड़ौदा थाना का पुलिस स्टॉफ व परिजन शामिल हैं। हालांकि यहां कोरोना संक्रमण पर थोड़ी रोक लगी है और पड़ोसी जिले मुरैना की तुलना में यहां काफी कम मामले सामने आए हैं। 

मुरैना संक्रमण से इसलिए भी डर, क्योंकि श्योपुर में तैनात सरकारी अमला ज्यादातर मुरैना से

मुरैना में फैल रहे संक्रमण का डर श्योपुर के लोगों को इसलिए भी सता रहा है क्योंकि यहां सरकारी पदों पर ज्यादातर लोग मुरैना से ही है। जिनके यहां मुरैना से लगातार आवाजाही बनी हुई है और संक्रमण के फेर में मुरैना पूरे संभाग में अव्वल पर चल रहा है। ऐसे में लोगों को डर है कि मुरैना से बनी आवाजाही के कारण यहां भी संक्रमण की चेन एक बार फिर से शुरु न हो जाए। क्योंकि पूर्व में यहां कोरोना की लगातार बढ़ रही एक चेन को प्रशासन ने बमुश्किल तोड़ा है। 

पुलिस में भी मुरैना से आए रिश्तेदारों से संक्रमण की पुष्टि
पुलिस में भी ज्यादातर सिपाही व अन्य अधिकारी मुरैना से संबंधित है। यहां बड़ौदा थाने में तैनात सिपाही उपेंद्र कुशवाह के कोरोना पॉजिटिव निकलने के साथ ही सामने आया कि उनके यहां मुरैना से रिश्तेदार आए थे। 27 जून को उपेंद्र कुशवाह को कोरोना की पुष्टि हुई थी। इसके साथ ही टीआई मनोज झा ने बताया था कि उपेंद्र के यहां इसके 8 दिन पहले मुरैना से कुछ रिश्तेदार घर आए थे।

शहर में ज्यादातर चाट के ठेले व रेस्टोरेंट में मुरैना के कामगार
शहर में भी चाट व अन्य तरह के नाश्ते के ठेले ज्यादातर मुरैना-ग्वालियर व भिंड के कामगार लगाते हैं। इनकी वापसी अब फिर से शुरु हो गई है। इन कामगारों के द्वारा काम करने पर कोई मनाही नही है,  लेकिन मुरैना से आने के बाद यहां लोग श्योपुर अस्पताल पहुंचकर खुद का हेल्थ चेकअप भी नही करा रहे है जो कि गंभीर मामला है। इसे लेकर प्रशासन और स्वास्थ्य टीम भी काम नही कर रही है। चाट के ठेलों के अलावा यहां होटल व रेस्टोरेंट में काम करने वाले मजदूरों के तो सैंपल कराए गए है, लेकिन अनलॉक में चाट के ठेले लगा रहे भिंड, मुरैना व अन्य जिलों से आने वाले लोगों के न तो सैंपल हो रहे है और नही इनका स्वास्थ्य चेकअप हो रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना