पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समर्थन मूल्य पर खरीदी:सायलो केंद्र पर 5 घंटे देरी से खरीदी, कई किसानों की उपज दूसरे दिन बिक सकेगी

श्योपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नागदा और सलमान्या केंद्र पर दिनभर में सिर्फ 300 किसानों से ही खरीदी जा सकी उपज

समर्थन मूल्य पर नागदा और सलमान्या सायलो केंद्रों पर खरीदी शुरू कर दी गई है। सोमवार को पहले ही दिन नागदा सायलो केंद्र पर खरीदी तय समय से पूरे 5 घंटे की देरी से शुरू हो पाई। ऐसे में किसानों को गेहूं बेचने के लिए दिनभर इंतजार करना पड़ा। कई किसानों का नंबर गेहूं बेचने के लिए दूसरे दिन तक आ सकेगा। ऐसे में किसानों को परेशानी होगी। समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए 26 हजार से ज्यादा किसानों ने पंजीयन कराए हैं। सोमवार से सायलो नागदा व सलमान्या पर खरीदी शुरू की गई। इसमें भोपाल से 200-200 किसानों को मैसेज भेजे गए थे लेकिन दिनभर में सिर्फ 300 किसानों से ही खरीदी हो सकी। नागदा सायलो केंद्र पर सुबह 9 बजे से खरीदी शुरू होने के बजाए दोपहर 2 बजे से शुरू हो सकी।

ऐसे में किसानों को न सिर्फ गेहूं बेचने के लिए 5 घंटे इंतजार करना पड़ा बल्कि देरी शुरू हुई खरीदी के कारण कई किसानों का नंबर ही नहींं आ सका। अब उनका नंबर दूसरे दिन मंगलवार को आएगा। देरी से शुरुआत के बाद भी खरीदी शाम 7 बजे तक ही की गई। नागदा केंद्र पर दिनभर में 85 ट्रॉली गेहूं ही बिक सका। वही सलमान्या खरीद केंद्र पर दिनभर में 172 ट्रॉली गेहूं बिका।
चना-सरसों की खरीद कम क्याेंकि मैसेज कम किसानाें काे भेज रहे
गेहूं के अलावा चना-सरसों की खरीदी भी समर्थन मूल्य पर 10 केंद्रों के माध्यम से की जा रही है लेकिन भोपाल स्तर से रोज 30-30 किसानों को ही मैसेज भेजे जा रहे है। मैसेज के फेर में खरीदी की रफ्तार शुरुआत से ही काफी धीमी है। अब तक चना बेचने के लिए पंजीकृत 12 हजार किसानों में से 1 हजार किसान और सरसों बेचने के लिए पंजीकृत 3700 किसानों में से 150 किसानों से ही खरीद की जा सकी।

पांच दिन से मंडी बंद क्योंकि हम्माल-तुलावटी की दरों पर नहींं बनी बात
श्योपुर जैदा कृषि उपज मंडी बीते 5 दिनों से बंद है क्योंकि व्यापारी व हम्माल-तुलावटियों के बीच में मजदूरी दर को लेकर विवाद चल रहा है। हम्माल-तुलावटी मजदूरी दर बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। प्रशासन दो बार इनके बीच मध्यस्थता कराने का प्रयास कर चुका है लेकिन हम्माल-तुलावटी कम दर होने के कारण काम करने काे तैयार नहींं हैं। सोमवार को मंडी डायरेक्टर के नाम व्यापारियों ने द्वारा ज्ञापन दिया जिसमें उन्होंने हम्माल-तुलावटियों के लिए दर निश्चित का काम शुरू कराने की मांग की। मंडी बंद होने से किसान यहां भी फसल विक्रय नहींं कर पा रहे हैं।

खड़ी फसल, इसलिए 50 केंद्रों पर खरीदी ही नहींं
सायलो केंद्रों के अलावा जिलेभर में 50 अन्य केंद्रों पर गांवों में ही खरीदी की जानी है लेकिन यहां अब तक खरीद शुरू नहींं हो सकी क्योंकि खरीद केंद्रों को शुरू करने के लिए जो स्थान चिह्नित किए गए हैं, वह खेत हैं और उनमें वर्तमान में गेहूं की फसल खड़ी हुई है। ऐसे में उक्त खरीद केंद्रों पर अभी भी खरीदी शुरू होने में एक-दो दिनों का समय लगेगा।
सायलो केंद्रों पर किसानों के लिए न छांव न पानी के इंतजाम
सायलो केंद्रों पर किसानों के लिए धूप बचने छांव व पानी के इंतजाम के निर्देश है, फिर भी इन केंद्रों पर किसानों के लिए छांव व पानी के कोई इंतजाम नहींं हैं। वही खरीदी की रफ्तार भी काफी धीमी है जिसकी शिकायत किसानों ने प्रशासनिक अफसरों से भी की लेकिन सुनवाई नहींं हुई। किसान हरिओम मीणा ने बताया कि उन्होंने इसे लेकर तहसीलदार को फोन किया, पर कोई व्यवस्था नहींं की गई। ऐसे तो किसानों को बहुत परेशानी होगी।
अभी शुरुआत है

  • अभी शुरुआत है, इसलिए कुछ देरी नागदा पर हुई। बाकी सलमान्या पर सबकुछ ठीक रहा। किसानों के लिए केंद्रों पर पानी-छांव की व्यवस्था कराएंगे। जहां फसल खड़ी वहां एक-दो दिन में खरीदी शुरू होगी। - रूपेश उपाध्याय, अपर कलेक्टर, श्योपुर

पांच साल में हुई गेहूं की खरीद के आंकड़े
साल किसान गेहूं की खरीदी

2015 16254 2.15
2016 16795 2.05
2017 17321 2.12
2018 18566 2.18
2019 18245 2.28
2020 22152 2.38
(गेहूं की खरीदी लाख मीट्रिक टन में)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें