पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Sheour
  • The Ponds And Pits In The MLA's Villages Remained In The Papers, Work Stopped On The Mache, Leave The Migrant Laborers Unemployed Only As Permanent Residents

मनरेगा में काम के नाम पर फर्जीवाड़ा:विधायकों के गांवों में ही तालाब और गड्ढे कागजों में खाेद रहे, माैके पर काम बंद, प्रवासी मजदूरों को छोड़िए स्थायी निवासी ही बेराेजगार

श्योपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ककरधा गांव जहां तालाब पर बताया जा रहा मनरेगा का काम चालू है।
  • मनरेगा के काम कागजों में कर रहे सरपंच-सचिव, दे रहे गोलमाेल जवाब

काेराेना की मार के बीच दूसरे राज्याें से आए मजदूराें के लिए भी प्रदेश सरकार मनरेगा काे संजीवनी बता रही है। हकीकत इसके उलट है। मनरेगा में दूसरे राज्याें से आए प्रवासी मजदूराें के लिए राेजगार ताे छाेड़िए उन लाेगाें काे भी काम नहींं मिल रहा है, जाे पंचायताें के स्थायी निवासी हैं। जिला पंचायत और जनपद का दावा है कि सभी 225 पंचायतों में मनरेगा का काम चल रहा है। शुक्रवार काे जब दैनिक भास्कर ने इसकी पड़ताल की तो पता चला कि जिले के दाेनाें विधायकाें की पंचायताें में ही मनरेगा के काम बंद हैं। जब इस संबंध में सरपंच और सचिवाें से बात की ताे उन्हाेंने दावा किया कि काम चालू हैं।

ककरधा गांव; दावा: बड़ा तालाब का काम चालू, हकीकत... माैके पर एक फावड़ा तक नहीं चला, मजदूरों को काम का अब भी इंतजार
विजयपुर विधायक सीताराम आदिवासी कराहल ब्लॉक के ककरधा गांव के निवासी हैं। कलमी-ककरधा पंचायत के सरपंच रामदयाल आदिवासी ने दावा किया कि ककरधा में बड़े तालाब व गुर्जर बस्ती कलमी में गड्‌ढे खोदने का काम जारी है। भास्कर टीम को वहां एक भी गड्‌ढा खुदा नहींं दिखा। काम भी बंद मिला। कलमी गांव की गुर्जर-मारवाड़ी बस्ती में भी गड्ढे खोदने का काम चालू नहींं मिला। इस पंचायत में 400 मजदूर हैं, जिनमें से 60 को काम देने का दावा है। 

सोंठवां गांव; अफसरों का दावा: तालाब व गड्‌ढे खुदाई का काम जारी, हकीकत... माैके पर एक भी मजदूर काम करते नहीं मिला
श्योपुर विधायक बाबू जंडेल के गृह गांव सोंठवा में भी जिला पंचायत के अफसर तालाब जीर्णोद्वार व गड्‌ढे खुदाई का काम चालू बता रहे हैं, लेकिन मौके पर न तालाब का काम चालू है न ही मजदूरों से गड्ढे खुदवाए जा रहे हैं। सोंठवां पंचायत में करीब 600 मजदूर हैं। इसमें से यहां 150 मजदूरों को काम देने का मांग अनुसार दावा किया जा रहा है। पंचायत के सोंठवा ही नहीं बल्कि आस-पास के पंचायत के अधीन आने वाले गांवों में भी कोई काम मजदूरों काे नहींं मिल रहा।

बंद काम में पंचायतों के मजदूरों को कर दिया 7.96 करोड़ का भुगतान... पैसा कहां गया किसी को नहींं पता 
जिले की सभी 225 ग्राम पंचायतों में मनरेगा के काम को चालू बताते हुए जिला पंचायत से सिर्फ मजदूरों के नाम पर पंचायत के सरपंच-सचिवों ने मस्टररोल भरकर अब तक 7.96 करोड़ रुपए का भुगतान करा लिया है, जबकि गांव में मजदूरों का कहना है कि उन्हें काम ही नहींं मिल रहा है। यह पैसा आखिर कहां गया किसी को नहीं पता। इसके साथ ही गड्‌ढे खुदाई के लिए तसला, फावड़ा, गैंती व सब्बल के नाम पर पंचायतों ने करीब 1 करोड़ से ज्यादा की सामग्री खर्च के बिल जारी कर दिए हैं। 

झूठ बोल रहे सरपंच-सचिव 
सीताराम आदिवासी, विधायक, विजयपुर ने कहा कि सरकार भले ही हमारी है, लेकिन यहां अफसर कागजी रिपोर्ट बनाकर भेज रहे है और आदिवासी मजदूरों को बेवकूफ बना रहे है। मेरी पंचायत में काम चालू नही है यह बात सही है। अगर सरपंच-सचिव व अधिकारी कह रहे है तो वह झूठ बोल रहे है।

बाबू जंडेल, विधायक, श्योपुर: मशीनों से काम कराकर हड़प रहे पैसा
सरपंच-सचिव और अधिकारी सब मिले हुए है। मेरी पंचायत में तो एक गड्ढा तक नही खोदा गया है। जिन पंचायतों में काम चालू है, वहां यह मशीनों से काम कराकर पैसा हड़प रहे है। मनरेगा को पूरी तरह से इन्होंने भ्रष्टाचार में तब्दील कर दिया है।

विक्रम जाट, पीओ मनरेगा, जिला पंचायत श्योपुर: सभी पंचायतों में काम चालू
कराहल की 50 सहित जिलेभर की सभी 225 ग्राम पंचायतों में मजदूरों को मांग अनुसार काम दिया जा रहा है। यहां 34 हजार मजदूरों को मांग पर काम दिया गया है। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें