पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंकुर अभियान:डेढ़ माह में 7 हजार लोगों ने रजिस्ट्रेशन किया, 1746 ने पौधे रोपे

शिवपुरी21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अंकुर कार्यक्रम: लोगों ने पौधरोपण के साथ अपने फोटो शेयर किए। - Dainik Bhaskar
अंकुर कार्यक्रम: लोगों ने पौधरोपण के साथ अपने फोटो शेयर किए।
  • सात हजार रजिस्ट्रेशन के साथ शिवपुरी जिला प्रदेश में चौथे नंबर पर, पौधे लगाने में हम 13वें स्थान पर

हर जिले की धरती को हरा भरा बनाने के लिए प्रदेश सरकार अब तकनीक की मदद ले पौधा रोपण करा रही है। करोड़ों रुपए खर्च करके जो काम सालों नहीं हो पाया, सरकार उसे आमजन की मदद से पूरा करने का प्रयास कर रही है। जून 2021 से मप्र सरकार ने अंकुर कार्यक्रम की शुरूआत की है।

एंड्राइड मोबाइल में “वायुदूत’ एप इंस्टॉल कराकर लोगों के रजिस्ट्रेशन कराए जा रहे हैं। शिवपुरी जिले में अभी तक 7 हजार 53 लोग रजिस्ट्रेशन कर चुके हैं। इनमें से 1746 लोग पौधे रोपकर पहला फोटो अपलोड कर चुके हैं। रजिस्ट्रेशन के मामले में शिवपुरी जिला प्रदेश में इंदौर, सागर व दतिया के बाद चौथे स्थान पर है। जबकि पौधे रोपने के मामले में शिवपुरी 13वे स्थान पर चल रहा है।

जिला स्तर पर नागरिकों द्वारा रोपे गए पौधों का रेंडम ली कलेक्टर द्वारा जन अभियान परिषद के वोलेंटियर्स तथा एनजीसी मास्टर ट्रेनर को वेरिफायर नियुक्त कर सत्यापन कराया जाएगा। इसके बाद जिला स्तर पर विजेताओं को वृक्ष वीरों और वृक्ष वीरांगनाओं के रूप में चिन्हित कर मुख्यमंत्री खुद प्राणवायु अवार्ड देकर सम्मानित करेंगे।

गूगल-प्ले स्टोर से वायुदूत इंस्टॉल करें, पौधे के साथ फोटो भेजें

प्रदेश सरकार की मैप आईटी विभाग ने वायुदूत बनाया है, जो गूगल प्ले स्टोर प्लेटफार्म पर उपलब्ध है। अपने एंड्राइल मोबाइल में एप इंस्टॉल करने के बाद मोबाइल नंबर से रजिस्ट्रेशन करना ह। फिर तीन ऑप्शन आएंगे जिसमें न्यू प्लांटेशन में जाकर रोपे जाने वाले पौधे का नाम व दूसरे ऑप्शन में संख्या दर्ज करनी होगी। फिर पौधा रोपते हुए फ्रंट फोटो खींचना होगा और प्लांटेशन वाली साइट की जानकारी दर्ज करके सबमिट करना है। इसमें गूगल लोकेशन भी स्वत: दर्ज हो जाती है। बाद में एक महीने बाद उसी पौधे का दूसरा फोटो खींचकर अपलोड करना होगा।

‘अंकुरण’के मुख्य उद्देश्य

पौध रोपण को एक सामाजिक संस्कार का रूप देना है। पौध रोपण कार्यक्रम में व्यापक जनभागीदारी, प्रदेश की धरती को हरा भरा बनाना, प्रकृति को प्राणवायु से समृद्ध करना, वायु प्रदेश प्रदूषण को नियंत्रित कर पर्यावरण को स्वच्छ बनाना और भू-जल संवर्धन में मदद करना।

खबरें और भी हैं...