कोरोना से 9 और मौत:18 दिन में 73 लोग गंवा चुके अब घर की दहलीज ही लक्ष्मण रेखा, इसे पार न करें...

शिवपुरी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अप्रैल में घातक कोरोना -12 तारीख से मौतों का सिलसिला जारी, संक्रमण अब हर जगह फैल चुका, हालात बदतर होते जा रहे

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में 12 अप्रैल से शुरू हुआ संक्रमिताें की मौतों का सिलसिला अब तक नहीं थम पाया है। गुरुवार काे भी 9 मरीजाें ने दम ताेड़ दिया। इन 18 दिनों में ऐसा एक भी दिन नहीं बीता है जिस दिन जिले में कोरोना से किसी न किसी मरीज की जान न गई हो।

ठीक से मास्क नहीं पहनना, सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं करने जैसी लापरवाही के कारण हम 18 दिनों में 73 जिंदगियां गंवा चुके हैं। अब आने वाले दिनों में किसी और मरीज की जान न जाए, इसके लिए कोरोना की चैन तोड़ना हर हाल में जरूरी हो गया है। इसलिए हम सभी को अब घर की दहलीज को ही लक्ष्मण रेखा मानना होगा और इसे पार न करने का संकल्प लेना होगा।

कोरोना महारी से गुरुवार को नौ मरीजों की मौत हो गई है। इनमें 40 से 45 साल के चार, 50 से 52 साल के तीन और 59 से 75 साल के दो मरीज हैं। संक्रमण अब हर जगह फैल चुका है। शहर के बाद गांवों में भी हालात बिगड़ते जा रहे हैं।

तमाम कोशिशें के बाद भी संक्रमण फैलता ही जा रहा है। इसके पीछे सिर्फ और सिर्फ लोगों की लापरवाही रही है। स्थिति यह है कि स्वास्थ्य विभाग आवादी के हिसाब से सैंपल टेस्ट नहीं करा पा रहा है। शिवपुरी शहर में सैंपलिंग कराने लोग खुद चलकर आ रहे हैं, फिर भी बिना सैंपल टेस्ट के सिर्फ दवाएं थमाकर घर भेज रहे हैं।

नौ मरीजों की कोविड गाइड लाइन के तहत मुक्तिधाम पर अंत्येष्टि कराई

गुरुवार की दोपहर 12.10 बजे गोपाल प्रसाद सोनी (59) पुत्र वंशीलाल सोनी निवासी खतौरा, सुबह 4 बजे हरीश तिवारी (50) निवासी शिवशक्तिनगर शिवपुरी, बुधवार की रात 8:15 बजे अब्दुल हकीम (52) निवासी शिवपुरी, बुधवार शाम 7:05 बजे अजय जैन (52) पुत्र प्रमचंद जैन निवासी शंकर कॉलोनी, बुधवार रात 9:40 बजे मंदीप कौर (40) पत्नी अमरेंद्र सिंह निवासी शिवपुरी, बुधवार रात 8:50 बजे उमा यादव (45) पत्नी करनसिंह यादव निवासी करैरा, बुधवार दोपहर 3:50 बजे शालिनी गौर (40) निवासी शांतिनगर शिवपुरी, बुधवार शाम 6:25 बजे लीला भट्‌ट (75) निवासी पिछोर और गुरुवार की शाम 6:45 बजे सुनीता ओझा (40) पत्नी चंद्रभान ओझा निवासी 26 नंबर कोठी फतेहपुर शिवपुरी की मौत हो गई है।

दस दिन में सबसे अधिक 56 मौतें हुईं
20 अप्रैल से 28 अप्रैल तक दस दिन में 56 मरीजों की कोरोना से मौत हुई है। इनमें 24 अप्रैल को सबसे अधिक 11 मौतें हुईं हैं। 27 अप्रैल को 7 व 20 अप्रैल को 6 मौतें और 21, 22 व 26 अप्रैल को 5-5 मरीजों की जान गई है। 28 अप्रैल को 9 मरीजों की मौत हुई है।

ऑक्सीजन बेड फुल, बिना इलाज मर रहे मरीज जिनका रिकाॅर्ड ही नहीं
जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता ठीक है, वे तो कोरोना संक्रमण से उबर रहे हैं। बुजुर्ग, पहले से बीमारियों से ग्रसित लोगों के लिए यह महामारी सबसे खतरनाक साबित हो रही है। गंभीर मरीजों की वजह से ऑक्सीजन बेड फुल चल रहे हैं। बिना इलाज के लोगों को लौटना पड़ रहा है। कई लोगों की घरों पर ही मौतों हो रहीं हैं, जो किसी रिकॉर्ड में नहीं ली जा रहीं।

खबरें और भी हैं...