पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई की मांग:एंबुलेंस स्टाफ पर आरोप- देरी से भर्ती होने पर प्रसूता की मौत

शिवपुरी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बहू की मौत के लिए ससुर ने एंबुलेंस स्टाफ को जिम्मेदार ठहराया

पोहरी से रैफर प्रसूता को डायल 108 जननी एंबुलेंस का स्टाफ जिला अस्पताल शिवपुरी परिसर के अंदर उतारकर चला गया। भर्ती कराने में 15 से 20 मिनट देरी हो गई। हालत बिगड़ने पर प्रसूता की मौत हो गई है। मोहनवती (22) पत्नी धर्मराज आदिवासी निवासी टपरपुरा भटनावर को परिजन बुधवार की सुबह 7 बजे पोहरी अस्पताल लेकर पहुंचे।

गंभीर हालत के चलते डॉक्टर ने शिवपुरी रैफर कर दिया। डायल 108 पर कॉल करके जननी एक्सप्रेस एंबुलेंस बुलवा ली। एंबुलेंस का स्टाफ प्रसूता को जिला अस्पताल परिसर में उतारकर चला गया। कायदे से प्रसूता को अंदर तक छोड़कर आना था।

प्रसूता के संग उसका ससुर कंचन आदिवासी, सास दिहायली व मां ईश्वरी देवी थी। बाइक से प्रसूता के पति व भाई को आने में 15 मिनट लग गए। दोनों के आने पर मोहनवती को अंदर ले गए, डॉक्टर ने देखा तो प्रसूता की मौत हो चुकी थी। ससुर कंचन आदिवासी का आरोप है कि एंबुलेंस स्टाफ की लापरवाही की वजह से उसकी बहू की मौत हुई है।

खबरें और भी हैं...