पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Shivpuri
  • Adequate Staff, But Nobody Listens To Me; Resulted By This: Principal You Don't Have Leadership Ability, Improve It Then Results Will Be Seen: JD

समीक्षा बैठक:पर्याप्त स्टाफ, पर मेरी कोई सुनता नहीं, इससे बिगड़ा रिजल्ट: प्राचार्यआपमें नेतृत्व क्षमता नहीं, इसे सुधारो तब दिखेंगे परिणाम: जेडी

शिवपुरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एमपी बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में खराब रिजल्ट वाले स्कूलों के प्राचार्यों को संयुक्त संचालक ने फटकारा

मिशन-1000 में शामिल 20 स्कूल और 11 खराब परिणाम वाले स्कूलों के प्राचार्यों की बैठक बुधवार को संयुक्त संचालक अरविंद सिंह ने बुलाई। एमपी बोर्ड दसवीं के नतीजे निराशाजनक आने के बाद संयुक्त संचालक ने प्राचार्यों से खराब रिजल्ट का कारण जाना। उत्कृष्ट स्कूल में आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक-2 के प्राचार्य अशोक गुप्ता ने जेडी से कहा- हमारा स्कूल मिशन-1000 में शामिल है। पर्याप्त स्टाफ है, लेकिन मेरी कोई सुनता नहीं है। इसलिए स्कूल का परिणाम बिगड़ा। इस पर जेडी ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि पूरा स्टाफ होने के बाद भी परिणाम बिगड़ा। इसका मतलब आपमें ही नेतृत्व क्षमता की कमी है, इसमें सुधार लाओ तब परिणाम दिखेंगे, वरना कार्रवाई के लिए तैयार रहो। मालूम हो कि जिले के 5 स्कूल ऐसे हैं, जिनके परिणाम जीरो प्रतिशत रहा है। साल 2019 में जिले में कक्षा 10 का परिणाम 51.88 फीसदी था और प्रदेश की मेरिट लिस्ट में जिले के 14 छात्र आए थे। इस साल रिजल्ट तो पिछले साल की तुलना में 5.72 फीसदी बढ़कर 57.60 फीसदी रहा लेकिन 8 विद्यार्थी ही टॉपर्स की सूची में आ सके। खास बात यह है कि जिन 20 स्कूलों को मिशन 1000 में शामिल कर वहां पर्याप्त स्टाफ के साथ-साथ अधोसंरचना विकास के लिए अलग से सरकार ने करोड़ों रुपए खर्च किए, उनमें आधे से अधिक स्कूल ऐसे रहे जिनका रिजल्ट 21 फीसदी तक घटा है। यही चिंता की बात है। मिशन 1000 में शामिल स्कूलों के अलावा जिले के 5 सरकारी स्कूल ऐसे भी हैं जहां 10वीं का एक भी छात्र पास नहीं हो सका यानी रिजल्ट जीरो फीसदी रहा। अब ऐसे स्कूलों की समीक्षा संयुक्त संचालक ग्वालियर अरविंद सिंह कर रहे हैं। वे रिजल्ट सुधारने को लेकर प्राचार्यों को टिप्स देकर आगामी रिजल्ट सुधारने पर जोर दे रहे हैं।

उत्कृष्ट स्कूल के प्राचार्य बोले-
रोज बच्चों को मोटिवेट करता हूं, खुद भी पीरियड लेता हूं, इस कारण रिजल्ट अच्छा
आपके शासकीय उमावि क्रमांक 2 स्कूल की दीवार से उत्कृष्ट स्कूल की दीवार लगी है। उत्कृष्ट स्कूल का रिजल्ट अच्छा रहा जबकि इस स्कूल में पर्याप्त स्टाफ हाेने पर भी रिजल्ट में सुधार नहीं हुआ। इस पर उत्कृष्ट के प्राचार्य विवेक श्रीवास्तव ने जेडी अरविंद सिंह को बताया- सर, हमारे स्कूल में प्रार्थना के समय मैं हमेशा मौजूद रहकर बच्चों को मोटिवेट करता हूं। प्रतिदिन 1-2 पीरियड भी कक्षाओं में लेता हूं। स्टाफ पर निगरानी रखता हूं, इसलिए हमारे स्कूल के विद्यार्थी प्रदेश में टॉपर बनते हैं। इस पर जेडी ने जिन स्कूलों का परीक्षा परिणाम बिगड़ा है, उन सबके प्राचार्य को उनसे सीखने के लिए कहा। बता दें कि उत्कृष्ट स्कूल का रिजल्ट इस बार 98 प्रतिशत रहा है।

रिजल्ट सुधारने के लिए यह दिए टिप्स

  • लापरवाह प्राचार्य अब मिशन 1000 में चयनित स्कूलों में नहीं रहेंगे। इन स्कूलों में वही प्राचार्य चलेगा जो नवाचार की क्षमता रखता हो। जिसमें लीडरशिप स्किल हो। सिर्फ अच्छे होने से काम नहीं चलेगा।
  • प्रत्येक स्कूल के प्राचार्य को कक्षा में कम से कम 2 पीरियड लेने ही होंगे ताकि बच्चों से प्राचार्य का सीधा संवाद हो और वह छात्रों की परेशानी को समझकर हल कर सके।
  • प्राचार्यों को बच्चों के लिए फ्रेंडली माहौल बनाना होगा। यदि उनकी छोटी-छोटी समस्याओं का समाधान करते हैं तो इससे एक-दूसरे के प्रति समझ बढ़ेगी और परिणाम में भी सुधार ला सकेंगे।
  • जहां स्टाफ की कमी है, वहां नियुक्त गेस्ट फैकल्टी पर निगरानी रखनी होगी। वे बच्चों को क्या पढ़ा रहे हैं, कैसे पढ़ा रहे हैं, यह देखना होगा।
  • प्राचार्यों के साथ शिक्षकों को अब घर की परेशानियों से अधिक स्कूल की परेशानियों का समाधान करना होगा, तभी परिणाम सुधरेगा।
  • प्राचार्य का स्टाफ से सामंजस्य बनाने पर जोर।
  • बच्चों को बताओ, किस यूनिट से कितने प्रश्न आएंगे। इससे विद्यार्थी सभी यूनिट पर ध्यान दे सकेंगे।
0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें