पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Shivpuri
  • After Giving The Karona Sample, The Investigation Did Not Come Even In 24 Hours, Then The Students Gave Competitive Examination In Rajasthan Without Report, On The Fourth Day, They Came To Know That They Were Infected.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देर से आई रिपोर्ट:काेरोना सैंपल देने के बाद 24 घंटे में भी जांच नहीं आई तो छात्रों ने बिना रिपोर्ट राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षा दी, चौथे दिन लौटते समय संक्रमित होने का पता चला

शिवपुरी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तीन से चार दिन में आ रही रिपोर्ट... जिले में कोरोना पॉजीटिव दर कम दर्शाने रोक रहे सैंपल टेस्ट

जिले में कोरोना संक्रमण दर कम दिखाने के लिए राेजाना कुछ सैंपल की रिपाेर्ट रोककर तीन से चार दिन बाद जारी की जा रही है। रिपोर्ट में देरी के कारण कोरोना का सैंपल कराने वाले घर पर क्वारेंटाइन होने के बजाए खुद को पॉजिटिव माने बगैर घूमते हैं और लोगों के भी संपर्क में आते हैं। लेकिन जब तीन या चार दिन बाद उनकी रिपोर्ट पॉजीटिव आती है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

ऐसा ही मामला प्रतियोगी परीक्षा देने वाले छात्रों का सामने आया है। राजस्थान में परीक्षा में शामिल होने के लिए छात्रों को सैंपल टेस्ट रिपोर्ट कराना अनिवार्य कर दिया था। लेकिन शिवपुरी से राजस्थान के काेटा और जयपुर में परीक्षा देने जाने वाले छात्र-छात्राओं को 24 घंटे बाद भी रिपोर्ट नहीं मिली।

मेडिकल कॉलेज में संपर्क किया तो बताया गया कि मोबाइल पर मैसेज आ जाएगा। इस मैसेज की उम्मीद में छात्र परीक्षा देने राजस्थान चले गए। चूंकि वहां पर छात्रों ने जांच कराने वाला मैसेज दिखाकर कह दिया कि पॉजिटिव का कोई मैसेज नहीं आया इसलिए हम निगेटिव ही होंगे। इस तर्क पर छात्रों को परीक्षा में बैठने की अनुमति दे दी। लेकिन जब यह कुछ छात्र परीक्षा देकर लौटे तो उन्हें पता चला कि उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षा को लेकर जिला अस्पताल शिवपुरी में 250 से अधिक छात्र-छात्राओं ने 4 अप्रैल को अपना कोविड-19 सैंपल टेस्ट कराया था। आरटीपीसीआर सैंपल टेस्टों की रिपोर्ट में अधिकतर छात्रों के सैंपल शामिल नहीं किए।

चौबीस घंटे बाद छात्र बिना रिपोर्ट के परीक्षा देने राजस्थान चले गए। परीक्षा देने के बाद 7 मार्च को दो लिस्ट जारी कीं जिसमें 81 पॉजीटिव केस थे और इन संक्रमितों में कुछ छात्र भी शामिल निकले जो शिवपुरी लौट रहे थे। छात्रों को रास्ते में आते वक्त अपने संक्रमित होने का पता चला। परीक्षा से लेकर आते-जाते वक्त कई लोगों के संपर्क में शामिल रहे। यानी सैंपल रोकना आम जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जबकि संक्रमण रोकने से लेकर इलाज की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग की है।

संक्रमित छात्रा बोली-मेरे संग परीक्षा देने वाली दूसरी छात्राएं भी पॉजीटिव

राजस्थान से परीक्षा देकर लौट रही छात्रा ने दैनिक भास्कर को बताया कि लिस्ट में दूसरी छात्राएं भी पॉजीटिव हैं, जो उसके संग परीक्षा देने राजस्थान आईं थीं। कुछ छात्र भी संक्रमित बताए जा रहे हैं। छात्रा शिवपुरी से ग्वालियर तक बस से गई और ग्वालियर से जयपुर ट्रेन से गई। परीक्षा में शामिल होकर वापस राजस्थान से वापस आई। स्वास्थ्य विभाग की इस लापरवाही से संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा है।

ताकि चालाकी पकड़ी ना जाए... आरटीपीसीआर लिस्ट से सैंपलिंग की तारीख भी हटाई

हर दिन जारी हो रही सैंपल टेस्ट रिपोर्ट में चालाकी साफ दिख रही है। आरटीपीसीआर सैंपल टेस्टिंग में पहले पॉजीटिव केस ना के बराबर थे, तक सैंपलिंग की तारीख और रिपोर्ट जारी करने की तारीख दी जा रही थी। लेकिन अचानक पॉजीटिव केस बढ़ने लगे और सैंपलिंग ज्यादा होने लगीं तो पॉजीटिव दर कम रखने सैंपल टेस्ट ही रोकना शुरू कर दिए। तीन से चार दिन में जो सैंपल टेस्ट दिए जा रहे हैं, लिस्ट में हर केस के आगे सैंपल की तारीख और रिपोर्ट जारी करने की तारीख हटा दी है। इसमें मेडिकल कॉलेज और स्वास्थ्य विभाग दोनों बराबर के जिम्मेदार हैं।

ये मेडिकल कॉलेज वाले ही बता सकते हैं

अधिकतर सैंपल टेस्ट रिपोर्ट 24 घंटे में जारी की जा रहीं हैं। हालांकि सैंपल टेस्ट रिपोर्ट मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी जा रहीं हैं। इस बारे में वही लोग बता सकते हैं कि सैंपल टेस्ट क्यों रोके जा रहे हैं। हमारा काम सैंपल टेस्ट भिजवाने का है। -. एएल शर्मा, सीएमएचओ, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग जिला शिवपुरी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें