छलावा / सरकार का नहीं, यहां पर आढ़तियों का कानून, मंडी शुल्क से तीन गुना ज्यादा आढ़त वसूल रहे

Laws of the agents here, not the government, are charging more than three times the market fee
X
Laws of the agents here, not the government, are charging more than three times the market fee

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

शिवपुरी. प्रदेश सरकार ने प्याज पर 2% आढ़त वसूलने का नियम बनाया है। लेकिन शिवपुरी मंडी में आढ़तिए प्याज पर किसानों से 5% आढ़त काट रहे हैं। यानी शिवपुरी अनाज मंडी में सरकार का नहीं, आढ़तियों का कानून चल रहा है। मंडी सचिव से लेकर प्रशासनिक अधिकारी सबकुछ जानते हुए भी आंखों के सामने किसानों का शोषण होने से नहीं रोक पा रहे हैं। जिले की सभी नौ तहसीलों की प्याज शिवपुरी अनाज मंडी में खरीदी जा रही है। प्याज व्यापारी, आढ़तिए और मंडी वालों की सांठगांठ के चलते किसानों का शोषण हो रहा है। किसान कई बार शिकायत कर चुके हैं, फिर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। 
जानकारी के अनुसार प्रदेश सरकार द्वारा प्याज पर 2% आढ़त तय की है। लेकिन प्याज खरीदने वाले आढ़तिए मंडी आने वाले किसानों से 5% आढ़त काटकर ले रहे हैं। जिससे किसानों का नुकसान हो रहा है। यही नहीं प्रति मन 40 किलोग्राम होता है। लेकिन किसानों से प्रति मन 42 किग्रा अतिरिक्त तौल ले रहे हैं। एक तरफ 3% ज्यादा आढ़त काट रहे हैं और ऊपर से दो किग्रा ज्यादा तौल ले रहे हैं। जिससे किसानों को लाखों का नुकसान हो रहा है। दिन रात मेहनत करके प्याज का उत्पादन लेने वाले किसानों को भाव भी कम मिल रहे हैं। ऊपर से दो तरह से किसानों का शोषण किया जा रहा है। इसमें मंडी प्रबंधन कोई ध्यान नहीं दे रहा। जिससे किसान मिलीभगत के आरोप लगा रहे हैं। 

तीन तरह से शोषण : ज्यादा आढ़त, 2 किलो ज्यादा तौल और किसानों को कम भाव मिल रहा 

3% ज्यादा आढ़त : प्याज पर मंडी टैक्स 1.5% है। जबकि आढ़ 2% रखी है। लेकिन शिवपुरी मंडी में प्याज लेकर आ रहे किसानों से 5% आढ़त काटी जा रही है जो 3% ज्यादा है। यानी हर दिन औसतन 900 ट्रॉली प्याज की आवक है। मोजूदा मंडी रेट के अाधार पर 3% अतिरिक्त आढ़त के रूप में किसानों को हर दिन 2.50 से 4 लाख रुपए का नुकसान हाे रहा है।

2- 2 किलो ज्यादा तौल : प्रति मन 40 किलाे ग्राम की ताैल निर्धारित है। लेकिन आढ़तिए 42 रु. मन ताैलकर ले रहे हैं। यानी प्रति क्विंटल 5 किलाेग्राम प्याज अतिरिक्त ली जा रही है। 900 ट्राॅली के मान से 990 क्विंटल प्याज के रूप में किसानों काे 4 लाखों से 7 लाख रुपए का नुकसान हाे रहा है।

कम भाव : शिवपुरी में खरीदी प्याज काे उत्तर प्रदेश की कानपुर सहित अन्य मंडियों में ट्रकाें से भेजा जा रहा है। कानपुर मंडी में न्यूनतम भाव 750 रुपए क्विंटल है। जबकि शिवपुरी मंडी में 250 रुपए क्विंटल से शुरूआत कर 600 क्विंटल तक भाव लगाए जा रहे हैं। 

आढ़त ज्यादा काट रहे, प्रति मन 2 किलो ज्यादा तौल ले रहे व्यापारी 
कन्हैया यादव, किसान ग्राम हरिनिवास खेड़ा  के मुताबिक, आढ़तिए हमसे आढ़त 5% काटकर प्याज ले रहे हैं। जबकि प्रावधान 2% आढ़त काटने का है। यही नहीं प्रतिमन 40 किलाे की बजाय 42 किलो ताैल ली जा रही है। हमें प्रति क्विंटल 5 किग्रा का नुकसान हाे रहा है। व्यापारी, मंडी अधिकारियों काे पैसे देते हैं, इसलिए हमारी कोई सुनवाई नहीं हाेती। मजबूरी में प्याज बेचना पड़ रही है।

आढ़त 2% ही लेंगे, ज्यादा ताैल लेने वालों पर कार्रवाई करेंगे 
अरविंद बाजपेयी, एसडीएम के मुताबिक, किसानों से 2% आढ़त लेने का प्रावधान मंडी बोर्ड ने तय किया है। अब 5% आढ़त किसी भी किसान से वसूली नहीं जाएगी। इस बारे में व्यापारियों को स्पष्ट कर रहे हैं। प्रति मन 2 किलो ज्यादा प्याज भी नहीं तौलने दी जाएगी। यदि कोई आढ़तिया नियमों का पालन नहीं कर रहा है तो हम कार्रवाई करेंगे। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना