पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

क्राइसिस समूह सदस्यों ने उठाए सवाल:मेडिकल कॉलेज ने पांच दिन पहले कोरोना से 45 मौत बताईं

शिवपुरी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड वार्ड के आईसीयू में भर्ती मरीजों से बातचीत करते डॉक्टर। - Dainik Bhaskar
कोविड वार्ड के आईसीयू में भर्ती मरीजों से बातचीत करते डॉक्टर।
  • डीन की सफाई, बोले- पहले कोविड और नोन कोविड दोनों को शामिल किया था, अब अलग-अलग

मेडिकल कॉलेज ने 30 अप्रैल के बुलेटिन में काेराेना से मरने वालाें की संख्या 45 बताई। लेकिन तीन मई को यह संख्या घटाकर 37 कर दी गई। इस पर सवाल खड़े हो गए। क्राइसिस समूह सदस्यों ने भी इस पर सवाल उठाए। सदस्यों ने कहा कि मेडिकल कॉलेज की जानकारी गलत है। इसकी जांच होनी चाहिए। वहीं डीन ने कहा कि पहले कोविड, नॉन कोविड मिलाकर मृतकों की संख्या जारी की गई थी।

अब कोविड मृतक संख्या को जारी किया गया है। दरअसल, मेडिकल कॉलेज में कितने मरीज भर्ती हुए, कितने पलंग हैं, कितने आईसीयू बेड हैं, इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं होती थी। इसे लेकर जब क्राइसेस समूह के सदस्यों ने सवाल दागा तो कलेक्टर ने डीन डॉ अक्षय निगम को निर्देश दिए कि वह प्रतिदिन का बुलेटिन जारी करें। इसके बाद पहला बुलेटिन 30 अप्रैल को कलेक्टर ने स्वयं ग्रुपों पर जारी किया।

इस बुलेटिन में 30 अप्रैल की दिनांक तक मृतकों की संख्या 45 दर्ज थी। इसके बाद 3 मई के हेल्थ बुलेटिन में मेडिकल कॉलेज ने मृतकों की संख्या घटकर 37 कर दी। इससे क्राइसेस समूह के सदस्य आकाश शर्मा, अशोक अग्रवाल, राकेश गुप्ता सहित कई सदस्यों ने सवाल खड़े किए की मेडिकल कॉलेज में हो क्या रहा है। और इसकी सही सही जानकारी जब कलेक्टर को नहीं दी जा रही तो आम आदमी को कैसे मिलेगी।

मेडिकल कॉलेज में अब गंभीर मरीज तभी भर्ती होंगे जब आईसीयू में बेड खाली होंगे, आइसोलेशन में नहीं होंगे भर्ती

गंभीर मरीज को मेडिकल कॉलेज में भर्ती तभी किया जाएगा जब आईसीयू में बेड खाली होंगे। अब तक गंभीर मरीज को उपचार के लिए आइसीयू में जगह न होने पर आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाता था। लेकिन अब प्रबंधन ऐसा नहीं करेगा। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने यह निर्णय इसलिए लिया क्याेंकि कई गंभीर मरीजों की लगातार मौत हो रही थी।

डीन ने कहा है कि वह आइसीयू में खाली बेड होने पर ही मरीज को भर्ती कर पूरा उपचार देंगे। क्रिटिकल केस आने पर मेडिकल कॉलेज में डेथ हो जाने के बाद लोग मेडिकल कॉलेज की छवि पर बट्टा लगा रहे हैं। डॉक्टर की उपचार पद्धति पर आरोप लगा रहे हैं जबकि ऐसा कुछ नहीं है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें