पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कागजों में संक्रमण घटाने नया फंडा:जिस रेपिड एंटीजन किट पर सरकार को ही भरोसा नहीं, उससे जांच ज्यादा होंगी क्योंकि इससे कम पॉजिटिव निकल रहे

शिवपुरी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल में कोरोना जांच कराने पहुंचे लोग। - Dainik Bhaskar
जिला अस्पताल में कोरोना जांच कराने पहुंचे लोग।
  • टीकमगढ़ के बाद शिवपुरी में सबसे ज्यादा संक्रमण, आरटीपीसीआर से अब कम जांचें होंगी
  • आरटीपीसीआर से रोज सिर्फ 250 सैंपल जांचे जाएंगे, जबकि रेपिड एंटीजन किट से 750 सैपल
  • आरटीपीसीआर से संक्रमण दर 61% और रेपिड एंटीजन किट से सिर्फ 22%

प्रदेश में टीकमगढ़ के बाद शिवपुरी जिले में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण है। इस संक्रमण दर को हकीकत के बजाए कागजों में कम करने के लिए अब नया तरीका अपनाया है। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने आरटीपीसीआर जांच कम संख्या में करने का आदेश दिया है। जबकि उस रेपिड एंटीजन किट से जांचों की संख्या बढ़ाने का आदेश दिया है, जिसे खुद सरकार भरोसेमंद नहीं मानती।

जबकि शिवपुरी में मेडिकल कॉलेज होने से यहां पर ग्वालियर की तरह आरटीपीसीआर जांच की क्षमता बढ़ाई जा सकती है। मालूम हो कि रेपिड एंटीजन किट से हुई जांच पर इसलिए भी सवाल उठ चुके हैं क्योंकि इसकी पॉजिटिविटी रेट काफी कम हैं। यानी रेपिड एंटीजन किट से हुई जांच से कम लोग पॉजिटिव निकलते हैं। लोगों का कहना है कि इसीलिए सरकार ने आरटीपीसीआर जांच कम करके रेपिड एंटीजन बढ़ाने पर जोर दिया है। मालूम हो कि 28 अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग ने पत्र जारी कर शिवपुरी जिले में सैंपल टेस्ट की संख्या बढ़ाकर 1 हजार कर दी है, लेकिन इसमें 75% टेस्ट रेपिड एंटीजन किट से और शेष 25% टेस्ट अारटी पीसीआर के तहत होंगे। अभी तक आरटीपीसीआर और रेपिड एंटीजन टेस्ट 50%-50% हो रहे थे।

रेपिड एंटीजन की जांच मान्य नहीं, फिर भी रेपिड टेस्ट 75% बढ़ा दिए

  • एक से दूसरे राज्यों में आने-जाने के लिए आरटीपीसीआर सैंपल रिपोर्ट ही मान्य है।
  • प्रतियोगी परीक्षाओं में 72 घंटे के भीतर की आरटीपीसीआर रिपोर्ट का प्रावधान रखा है
  • सरकारी विभाग में छुट्‌टी के बाद वापस ज्वाइनिंग देने के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट मान्य है।
  • सरकार भी मान रही सबके टेस्ट मुश्किल, किल कोरोना सर्वे कराकर दवाएं बांटी जा रहीं।

संक्रमण दर आरटीपीसीआर में 61% और रेपिड में 22%
आरटी पीसीआर की रिपोर्ट के अनुसार बीते आठ दिनों में संक्रमण दर आैसतन 61% आ रही है। जबकि रेपिड एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिविटी रेट औसतन 22% आ रही है। हेल्थ बुलेटिन दोनों सैंपल टेस्ट की संख्या जोड़कर जारी हो रहा है जिससे शिवपुरी जिले में वास्तविक पॉजिटिविटी रेट सामने नहीं आ रही है। इस लिहाज से सबसे अधिक संक्रमितों में शिवपुरी जिला होगा।

सीधी बात; प्रभुराम चौधरी, मंत्री स्वास्थ्य विभागकागजों में संक्रमण दर कम करने की हमारी मंशा नहीं

सरकार ने आरटीपीसीआर जांच कम कर दी हैं और रेपिड एंटीजन किट से जांचें बढ़ाने का निर्णय लिया है। जबकि रेपिड किट को तो सरकार ही भरोसेमंद नहीं मानती।
ऐसा इसलिए किया है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो सकें। किट है तो भरोसा तो है। ये बात सही है कि कुछ जगह आरटीपीसीआर की मांग करते हैं।

क्या संक्रमण दर कागजों में कम करने के लिए ऐसा किया गया है, क्योंकि रेपिड किट से कम लोग पॉजिटिव निकल रहे।
संक्रमण दर कम करने के लिए सरकार प्रयास कर रही है। किल कोरोना अभियान चला रही है। कागजों में संक्रमण रोकने का प्रयास हमारा कतई नहीं है।

शिवपुरी में आरटीपीसीआर जांच से संक्रमण दर 60 प्रतिशत से अधिक और रेपिड की सिर्फ 22 प्रतिशत है।
जवाब- अब जो भी है, लेकिन हमारी मंशा गलत नहीं है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें