पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गड़बड़ी:सचिव ने पति की फर्म से खरीदा सामान, दो साल में 21 लाख रुपए का किया भुगतान

शिवपुरी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम पंचायत श्रीपुर चक्क की महिला सचिव ने अपने पति की फर्म से खरीदारी की है। - Dainik Bhaskar
ग्राम पंचायत श्रीपुर चक्क की महिला सचिव ने अपने पति की फर्म से खरीदारी की है।
  • सरपंच-सचिव अपने परिवार के सदस्यों के संग मिलकर फर्जीवाड़ा कर रहे
  • बदरवास की श्रीपुरचक पंचायत का मामला, जनपद स्तर के अफसरों ने भी गौर नहीं किया

जिले की ग्राम पंचायतों में नित नए फर्जीवाड़े सामने आ रहे हैं। अब बदरवास जनपद की ग्राम पंचायत श्रीपुरचक का नया मामला सामने आया है। ग्राम पंचायत की महिला सचिव ने अपने पति की फर्म पर लाखों की खरीदारी कर डाली है। दो साल तक महिला सचिव अपने पति की फर्म के बिल लगाकर भुगतान कराती रही, इस बात की भनक जनपद स्तर के अधिकारियों तक नहीं लगी।

ग्राम पंचायत श्रीपुरचक की महिला सचिव कल्पना लोधी ने सरपंच के साथ मिलकर अपने पति सतेंद्र लोधी की फर्म आराध्या कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर खतौरा के नाम पर लाखों के बिल लगाकर भुगतान कराया है। ग्राम पंचायत में स्वीकृत कार्यों के लिए मटेरियल आदि सामान पति की फर्म से खरीदना दर्शा दिया है। दो साल में 21 लाख से ज्यादा के बिल का भुगतान पति की फर्म से हो गया है। मामला उजागर होने के बाद अधिकारी जांच कराकर कार्रवाई की बात कह रहे हैं। जिले में ऐसी तमाम फर्म संचालित हैं, जो सरपंच अथवा सचिव के परिजन की हैं। कहीं न कहीं मिलीभगत से ग्राम पंचायतों में बिल का भुगतान इसी तरह हो रहा है।

खतौरा में लोग बोले- इस नाम से कोई फर्म नहीं

आराध्या कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर के जो बिल लगे हैं, उसका पता खतौरा कस्बे में दर्ज है, लेकिन खतौरा में छानबीन की तो लोगों ने बताया कि इस नाम से कोई फर्म या दुकान नहीं है। वहीं इस फर्म के बैंक खाते का आईएफएससी कोड कदवाया शाखा का है, जो अशोकनगर जिले की ईसागढ़ तहसील में आता है। फर्म संचालक के गांव कुटवारा से कदवाया महज 6-7 किमी दूर ही है।

श्रीपुरचक पंचायत के 27 बिलों का भुगतान हुआ

ग्राम पंचायत श्रीपुरचक द्वारा महिला सचिव की फर्म के नाम से 27 बिलों का भुगतान हुआ है। 25 जून 2019 को 50 हजार 220 रु. का पहले बिल का भुगतान हुआ, जबकि 1.20 लाख रु. के आखिरी बिल का भुगतान 25 फरवरी 2021 को हुआ है। 12 अक्टूबर 2019 को 1.59 लाख रु. का बड़ी राशि का भुगतान हुआ है। इस तरह कुल 21 लाख 11 हजार 223 रुपए के बिलों का भुगतान हुआ है।

कुटवारा से भी चार बिल का 4.67 लाख भुगतान हुआ

बदरवास जनपद की ही ग्राम पंचायत कुटवारा के चार बिलों का भुगतान आराध्या कंस्ट्रक्शन एवं बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर को हुआ है। कुल 4 लाख 67 हजार 805 रु. का भुगतान है। इनमें एक भुगतान 44700, दूसरा 121380, तीसरा 144975 और चौथा 156750 रुपए का है। इस पंचायत की महिला सरपंच सावित्री लोधी हैं। फर्म संचालक सतेंद्र लोधी ने सरपंच को पहले अपनी मां और फिर चाची बताया।

नियम : सब इंजीनियर के भौतिक सत्यापन के बाद ही भुगतान का प्रावधान

ग्राम पंचायतों में होने वाले विकास कार्यों से संबंधित बिल भुगतान से पहले जनपद कार्यालय के सब इंजीनियर द्वारा फर्म का भौतिक सत्यापन किया जाता है। भौतिक सत्यापन में यदि फर्म सही पाई जाती है तो उसे बिल भुगतान किया जा सकता है। यदि महिला सचिव के पति की फर्म का भौतिक सत्यापन यदि ठीक से नहीं किया तो मामले में सब इंजीनियर पर भी कार्रवाई की गाज गिर सकती है।

गड़बड़ी पाई गई तो निश्चित तौर पर कार्रवाई करेंगे

ग्राम पंचायत श्रीपुरचक की सचिव के पति की फर्म को यदि गलत भुगतान हुआ है तो इसकी हम जांच कराएंगे। फर्म का भाैतिक सत्यापन भी कराएंगे। मामला गड़बड़ पाया जाता है, तो निश्चित तौर पर कार्रवाई करेंगे। -एलएन पिप्पल, सीईओ, जनपद पंचायत बदरवास






खबरें और भी हैं...