पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जनता के पैसा का दुरुपयोग:एक करोड़ की स्कूल बिल्डिंग में लगी दीमक, तीन साल पहले फीता कटने के बाद भी कक्षाएं शुरू नहीं

शिवपुरी16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिटौरा गांव स्कूल भवन में दीमक लग गई। - Dainik Bhaskar
चिटौरा गांव स्कूल भवन में दीमक लग गई।
  • चिटौरा गांव में अधूरी हाईस्कूल बिल्डिंग दो साल पहले हैंडओवर लेने के लिए पूर्व डीईओ ने दी गुपचुप मंजूरी

जिला मुख्यालय के नजदीक पाेहरी विस के चिटोरा गांव में एक करोड़ की लागत से बनकर तैयार हाईस्कूल की बिल्डिंग में कक्षाएं शुरू होने से पहले ही दमक लग गई है। पीडब्ल्यूडी राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ भी इसी स्कूल परिसर में सुलभ शौचालय का लोकार्पण करके चले गए, लेकिन बिल्डिंग की सुध तक नहीं ली। दिसंबर 2017 में पोहरी के पूर्व विधायक प्रहलाद भारती ने इस बिल्डिंग का लोकार्पण किया था। लेकिन इस स्कूल में कक्षाएं लगनी शुरू हुई या नहीं, ये आज तक पलटकर नहीं देखा। मंत्री-विधायकों की रुचि सरकारी भवनों के फीता काटने में है, जनता को सुविधा मिल रही है या नहीं, इससे लेनादेना नहीं है।

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (रमसा) के तहत 1 करोड़ रुपए की लागत से चिटौरा में नवीन हाई स्कूल बिल्डिंग 30 जून 2017 में बनकर तैयार हो गई। लेकिन स्कूल प्राचार्य को हैंडओवर की सूचना तक नहीं मिली। दैनिक भास्कर ने मामले में छानबीन की तो पीआईयू अधिकारियों ने बताया कि 24 जून 2018 को तत्कालीन डीईओ अजय कटियार को बिल्डिंग हैंडओवर की जा चुकी है। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में रमसा का कार्य देखने वाले एडीपीसी मोहम्मद सरीफ ने पूछने पर बताया कि हैंडओवर की फाइल तत्कालीन डीईओ के बंगले पर रखी है।

ये चार बिंदुओं से खुल रही सरकारी व्यवस्था की पोल
अधूरी बिल्डिंग हैंडओवर कैसे हुई
बिल्डिंग में अभी कई काम शेष रह गए हैं। इसी वजह से स्कूल प्राचार्य भी यही सोचते रहे कि ठेकेदार पहले काम कंप्लीट कराएगा, फिर बिल्डिंग हैंडओवर हो पाएगी। जबकि तत्कालीन डीईओ दो साल पहले ही बिल्डिंग हैंडओवर ले चुके हैं। अधूरी बिल्डिंग आखिर किस आधार पर हैंडओवर ली गई, इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।

दीमक से गेट ही अलग हुए
वर्तमान में स्कूल में लकड़ी के गेट को दीमक चट कर गई है, जिससे गेट अलग हो गए हैं। दीवारों में भी जगह-जगह दीमक लगी हुई है। कई जगह दीवारों में क्रेक भी आ गए हैं। स्कूल बिल्डिंंग पर बड़े अक्षरों में शासकीय हाईस्कूल चिटोरा भी नहीं लिखवाया है।

स्कूल की डीपी से गांव में लाइट
स्कूल के लिए अलग ट्रांसफार्मर रखा है, जो चालू है, लेकिन उससे गांव वाले लाइट जला रहे हैं। बिजली कंपनी 18 हजार रु. का बिल थमा चुकी है। जबकि बिल्डिंग बंद होने से लाइट जलाई तक नहीं। खुले तारों से बच्चों की जान को खतरा है।

हैंडपंप का खोखा, पाइप नहीं
स्कूल परिसर में पीएचई ने हैंडपंप के लिए छह साल पहले बोर खनन कराया है। पाइप लाइन डालने की बजाय आनन फानन में खाली खोखा रखकर चले गए। सामने ही आंगनबाड़ी केंद्र है, बच्चों के लिए पीने का पानी दूर से लाना पड़ता है।

मिडिल स्कूल में 9वीं, 10वीं की कक्षाएं लगा रहे
हाई स्कूल बिल्डिंग हैंडओवर के संबंध में हम डीईओ ऑफिस पत्राचार कर चुके हैं। हमें लिखित में कोई जवाब नहीं मिला। अभी बिल्डिंग अधूरी है। फिलहाल 9वीं व 10वीं की कक्षाएं मिडिल स्कूल बिल्डिंग में लगा रहे हैं।
एसआर धाकड़, प्राचार्य, हाई स्कूल चिटोरा

अधूरी बिल्डिंग हैंडओवर कैसे हुई, मामले की जांच कराएंगे
रमसा का सारा काम एडीपीसी मोहम्मद शरीफ देखते हैं। इसकी पूरी जानकारी उनको होना चाहिए। भोपाल से लौटकर जानकारी लेता हूं कि अधूरी बिल्डिंग कैसे हैंडओवर हुई, इस मामले की जांच कराएंगे।
दीपक पांडेय, जिला शिक्षा अधिकारी शिवपुरी

​​​​​​​इन्हें याद ही नहीं
इस मामले में पूर्व डीईओ अजय कटियार का कहना है कि बिल्डिंग कब हैंडओवर ली, मुझे याद नहीं है। रिपोर्ट कैसे दी, ये तो एई निगम ही बताएं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें