मदद:जैकेट बनाने का हुनर, बैंक ने 10 लाख‎ देकर महिला समूह को बनाया आत्मनिर्भर‎

शिवपुरी‎25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 94 परिवारों को स्वरोजगार के लिए 1 करोड़ 86 लाख की मिली सौगात‎

महिला समूह के पास सिलाई, कढ़ाई, बुनाई के‎ साथ जैकेट बनाने का प्रशिक्षण और हुनर तो था‎ लेकिन पूंजी के अभाव में अपने व्यवसाय को वह‎ आगे नहीं बढ़ा पा रही थी। ऐसे में महिला स्व‎ सहायता समूह की 10 महिलाओं को अब 10‎ लाख रुपए की आर्थिक मदद बैंक योजनाओं के‎ माध्यम से की गई है जिससे महिला समूह‎ आत्मनिर्भर बन सकेंगे। खास बात यह है कि इस‎ दौरान 94 परिवार और महिला स्व सहायता समूहों‎ को एक करोड़ 86 लाख की आर्थिक मदद जिला‎ पंचायत सीईओ एच पी वर्मा द्वारा स्वीकृति पत्र‎ सौंपकर की गई।‎

मानस भवन में शनिवार को एसबीआई द्वारा‎ लगाए गए राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति के क्रेडिट‎ आउट मेगा कैंप आयोजन में जिला पंचायत‎ सीईओ और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एच पी‎ वर्मा ने महिला स्व सहायता समूह को यह सौगात‎ देते हुए कहा कि शासन की विभिन्न योजनाएं‎ महिला स्व सहायता समूह को सुद्रण बनाने की है।‎ इसीलिए जो महिला समूह जैकेट बनाकर अभी‎ अपने ही गांव में इन्हें विक्रय कर पा रहे थे, पैसे‎ की कमी के चलते उत्पादन अधिक नहीं ले पा रहे‎ थे वह अब अधिक मात्रा में इन्हें बनाकर आर्थिक‎ रूप से सक्षम हो सकेंगे। बैंक से मिले ऋण के‎ बाद कच्चा मटेरियल, मशीनरी और अन्य उपयोग‎ में इस राशि को वह ले सकेंगे। कार्यक्रम में‎ विशिष्ट अतिथि के रूप में उप महाप्रबंधक गोपाल‎ झा ने कहा कि आउटरीच कैंप में महिला स्व‎ सहायता समूह को दिए गए वित्त पोषण से महिला‎ रोजगार में वृद्धि हो रही है और वह समाज में‎ महती भूमिका निभा सकेंगे क्षेत्रीय प्रबंधक देवेश‎ गोयल द्वारा बैंक से प्राप्त ऋण की राशि का सही‎ उपयोग करने की नसीहत दी गई कार्यक्रम का‎ संचालन एफएलसी महेश शर्मा द्वारा किया गया‎ और आभार प्रदर्शन मुख्य प्रबंधक लीड बैंक‎ सतीश व्यास द्वारा किया गया।‎

खबरें और भी हैं...