पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिव आराधना पर्व:इस साल की एकमात्र सोमवती अमावस्या 12 को; शिव आराधना और दान का खास महत्व

श्याेपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रामेश्वर त्रिवेणी संगम एवं ध्रुव कुंड पर सोमवती अमावस्या को होगा मुख्य स्नान

इस साल की एकमात्र सोमवती अमावस्या 12 अप्रैल को है। इसे सोमवती अमावस्या, दर्श अमावस्या और चैत्र अमावस्या भी कहा गया है। ज्योतिषशास्त्री आचार्य दिनेशचंद्र सुराेठिया ने बताया कि अमावस्या तिथि रविवार को पूरे दिन और सोमवार सुबह 8.02 तक रहेगी। सोमवार को अमावस्या प्रातः उदय कालीन होने से यह सोमवती अमावस्या बन गई। इसमें धर्म, कर्म, दान पुण्य और तीर्थ स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार सोमवती अमावस्या के दिन किए गए दान से घर में सुख-शांति का वास होता है। सुहागिनें इस दिन पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखकर पीपल की पूजा करती हैं।
सोमवती पर शिव की आराधना से मजबूत होता है चंद्रमा: आचार्य दिनेशचंद्र सुराेठिया के अनुसार सोमवती अमावस्या पर भगवान शिव की पूजा अर्चना जरूर करनी चाहिए। शिव पूजन से धन-संपत्ति, वैभव के कारक चंद्रमा की स्थिति मजबूत होती है। हालांकि, इस दिन चंद्रमा के दर्शन नहीं होते हैं लेकिन शिव पूजा से चंद्रमा बलवान होकर शुभ फल प्रदान करता है। सोमवती अमावस्या पर उपवास करने और पितरों का तर्पण करने से पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। दान से राहू, शनि व चन्द्र दोष से विशेष शांति मिलती है।
काेराेना गाइड लाइन का पालन कराएं: कलेक्टर

जिले में काेराेना संक्रमण काे देखते हुए आने वाले दिनाें में चैत्र नवरात्र से पड़ रहे हिंदुओं के विभिन्न तीज त्योहार एवं मुस्लिम समाज के रमजान के दाैरान धार्मिक स्थलों पर कोरोना गाइडलाइन की पालना करवाने की अपील कलेक्टर राकेशकुमार श्रीवास्तव ने धर्म गुरुओं से की है। जिला प्रशासन ने आम लाेगाें से मास्क का प्रयाेग करने तथा भीड़भाड़ में जाने से बचने काे कहा है। कलेक्टर ने कहा कि लाेग राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करें , अपनी बारी आने पर काेविड का टीका लगवाएं और दूसराें काे भी वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करें।​​​​​​​
रामेश्वर त्रिवेणी संगम में होगा मुख्य स्नान
पाैराणिक महत्व के रामेश्वर धाम और ध्रुव कुंड पर साेमवती अमावस्या पर 12 अप्रैल काे मुख्य स्नान पर्व पर श्रद्धालु दूर दूर से पहुंचेंगे। रामेश्वर धाम पर त्रिवेणी संगम किनारे साेमवती अमावस्या का विशेष स्नान एवं दान का क्रम तड़के ऊषाकाल से शुरू हाेकर दाेपहर देर तक चलेगा। रामेश्वर महादेव, लक्ष्मीनारायण मंदिर और उस पार राजस्थान सीमा में परशुराम घाट और भगवान चतुर्भुज नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की विशेष चहलपहल रहेगी। शास्त्रों के अनुसार, सोमवार चंद्रमा का दिन होता है। इस दिन अमावस्या पड़ने पर सूर्य और चंद्र एक सीध में स्थित रहते हैं। इस खास संयोग को शास्त्रों में बेहद शुभ माना जाता है। सोमवती अमावस्या पर स्नान, दान और शिव आराधना का कई गुना पुण्य मिलता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें