पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आयोजन:एक हाथ रामजी मुकुट संवारे, दूजे हाथ पर्वत लिए ठाढ़े

उनाव6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुन्ना महाराज की कुटी पर मनाया गया शरद उत्सव, स्थानीय लोगों ने शरद ऋतु व कार्तिक गीत गाए गए

उनाव से सटी कुटोली आदिवासी बस्ती के समीप प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल मुन्ना महाराज की कुटी पर शनिवार की शाम पुष्य नक्षत्र के अवसर पर शरद उत्सव उल्लासपूर्ण ढंग से मनाया गया। इस मौके कार्तिक मास से जुड़े भजनों की प्रस्तुतियां दी गई। तदुपरांत सुंदरकाण्ड के पाठ का आयोजन भी किया गया। भजन संध्या का शुभारंभ मंदिर के पुजारी गोपालदास महाराज द्वारा भजन गायकी में रुचि रखने बाले कलाकारों का स्वागत फूलमालाएं पहनाकर किया गया। इस मौके पर बड़ी संख्या में श्रोतागण भी मौजूद रहे।

भजन संध्या का शुभारंभ गायक कलाकार रामेश्वर चतुर्वेदी के कार्तिक गीत दीनानाथ हमारे रघुनाथ हमारे, कब मिल हो के साथ किया गया। इसके बाद केशव यादव के गीत हरि के लछारे लंबे केश, हमारे हरि खो कीने बिलमा लये की भी मनोहारी प्रस्तुति हुई।

एक अन्य गायक कलाकार घनश्याम विश्वकर्मा के कार्तिक गीत आ जाऊंगी बड़े भोर, दहीरा लेके आ जाऊंगी बड़े भोर ने भी श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। गायक कलाकार गोबिंदराम विश्वकर्मा ने गोपिकाओं के गीत भई न बिरज की मोर, सखीरी में तो भई न बिरज की मोर पर भी उपस्थित लोग झूमने को मजबूर हो गए। ओमप्रकाश झा के भजन एक हाथ रामजी मुकुट सवारे, दूजे हाथ पर्वत लिए ठाढ़े को भी खूब सराहा गया। भजन संध्या में मुख्य रूप से अलख नारायण पंडा, खचेरे कुशवाहा, रामगोपाल तिवारी,कालका गौतम,परशुराम कुशवाहा, धर्मेंद्र पंडा, सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें