• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Harda
  • On The Orders Of The Tehsildar, The Joint Team Did The Demarcation In Chirakhan, The Village Panchayat Salyakhedi Had Demanded To Build A Cowshed

हरदा में राजस्व और वन सीमा का निर्धारण:तहसीलदार के आदेश पर चीराखान में संयुक्त दल ने किया सिमांकन, ग्राम पंचायत साल्याखेड़ी ने की थी गोशाला बनाने की मांग

हरदा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हरदा जिले की हंडिया तहसील के ग्राम चीराखान में शनिवार को शासकीय वन भूमि पर प्रशासनिक दल ने वन अमले के साथ संयुक्त रूप से सीमांकन कर राजस्व वन सीमा का निर्धारण किया। तहसीलदार डॉ. अर्चना शर्मा के आदेशानुसार गठित दल ने यह सिमांकन खसरा नंबर 13 रकबा 82.641 हेक्टेयर और शासकीय राजस्व भूमि खसरा नंबर 19/1 रकबा 8.777 हेक्टेयर मद चरनोई के बीच किया।

हंडिया राजस्व निरीक्षक संतोष पथोरिया ने बताया कि ग्राम चीराखान स्थित चरनोई मद की भूमि खसरा नंबर 19/1 कुल रकबा 8.777 हेक्टेयर में से पूर्व में गोशाला निर्माण के लिए स्वीकृत रकबा 0.809 हेक्टेयर और बाद में ग्राम पंचायत साल्याखेड़ी ने इसी भूमि में 2.023 हेक्टेयर भूमि और गोशाला की मवेशियों को करने के लिए जिला प्रशासन हरदा से मांग की गई थी।

इस प्रकार गोशाला के लिए कुल सात एकड़ भूमि और इसी भूमि से लगी वन भूमि की सीमा विवाद पिछले कुछ महीनों से चल रहा था। जिससे गोशाला की बाउंड्रीवॉल निर्माण का कार्य अटका हुआ था। जिसे हंडिया वन परिक्षेत्र अधिकारी दुर्गेश विशेन की उपस्थिति में मौके पर संयुक्त दल ने राजस्व वन सीमा का निर्धारण करने के बाद राजस्व दल ने गोशाला भूमि का सीमांकन कर कब्जा ग्राम पंचायत साल्याखेड़ी के सह सचिव संदीप चौहान को सौंपा गया।

इस मौके पर डिप्टी रेंजर वहीद खान, वन रक्षक जीवन राम तिवारिया, मुनीश मिश्रा, पटवारीगन अभिषेक नंदमेहर, जितेंद्र सिंह, आशीष मालवीय, प्रदीप परस्ते, लोकेंद्र बामनियां और गोशाला समिति के अध्यक्ष भगत सिंह पटेल कोटवारगन रामाधार, गवल, सत्यनारायण सहित अन्य ग्रामीण जन उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...