जानी ग्रामीण विकास योजनाओं की जमीनी स्थिति:भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर के विद्यार्थियों ने किया हरदा का भ्रमण

हरदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर के विद्यार्थियों ने चार दिवसीय भ्रमण कर किस प्रकार गांव की महिलाएं ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से स्वसहायता समूह में जुड़कर आत्मनिर्भर बन रही हैं। इसके बारे में ग्रामीण विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत जानी। कलेक्टर ऋषि गर्ग ने जिला पंचायत के सभाकक्ष में भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर के विद्यार्थियों के भ्रमण के समापन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

कार्यक्रम में कलेक्टर गर्ग ने छात्र-छात्राओं को जिले में आयोजित होने वाली विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने विद्यार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के संबंध में बताया। इस दौरान बताया कि शासन की अन्य विभिन्न योजनाओं की जानकारी उपस्थित छात्र-छात्राओं को दी। कार्यक्रम में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रोहित सिसोनिया,कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा प्रियंका मेहरा सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

कलेक्टर गर्ग ने बताया कि जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं की वृद्धि के लिए जीवनम् स्वास्थ्य शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। जिसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।जिले में युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिये ग्रामीण क्षेत्रों में क्लस्टर क्रेडिट कैम्प का आयोजन किया जा रहा है।इस अवसर पर बताया कि एक जिला एक उत्पाद के तहत जिले में बांस से निर्मित वस्तुओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

कार्यक्रम में भारतीय प्रबन्धन संस्थान इन्दौर के विद्यार्थियों ने भी अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने इस दौरान योजनाओं के संबंध में सुझाव दिए तथा योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों के बारे में भी बताया। उल्लेखनीय है कि भारतीय प्रबंधन संस्थान इन्दौर के 54 विद्यार्थियों का एक दल गत दिवस 4 दिवसीय भ्रमण पर हरदा पहुंचा था। इस दल में शामिल विद्यार्थियों ने भ्रमण के दौरान टिमरनी विकासखंड के ग्राम बड़झिरी, गागराढाना व टेमागांव में निवास कर ग्रामीण विकास योजनाओं की वस्तु स्थिति की जानकारी ली। इसके अलावा इन विद्यार्थियों ने हरदा विकासखंड के ग्राम मगरधा, खेड़ीनीमा व हीरापुर तथा खिरकिया विकासखंड के छुरीखाल, कुकड़ापानी व रामटेक रैयत में भी रूक कर ग्रामीण विकास योजनाओं की जमीनी स्थिति देखी। विद्यार्थियों ने प्रधानमंत्री आवास योजना, अमृत सरोवर व आजीविका मिशन तथा ग्रामीण स्वसहायता समूहों से संबंधित कार्य भी देखे।

खबरें और भी हैं...