सांसें बढ़ाने की तैयारी:बैतूल लाई जाएगी 1.6 कराेड़ की ऑक्सीजन प्रोडक्शन मशीन

बैतूल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 504 किमी की दूरी में लगने वाले समय काे बचाने गुड़गांव की जगह औरंगाबाद से आएंगी मशीन

ट्रांसपोर्ट का समय घटाने के लिए अब हरियाणा के गुड़गांव की जगह महाराष्ट्र के औरंगाबाद से 1 कराेड़ 06 लाख की ऑक्सीजन प्लांट की मशीन बुलवाई जाएगी। ऑक्सीजन जनरेटर मशीन में लगने वाला जियोलाइट फीव्स नाम का पार्ट यूएसए से औरंगाबाद के एअरोक्स कंपनी के प्लांट आएगा।

यहां पर अभी प्लांट का 75 प्रतिशत काम हाे चुका है। विदेश से आने वाले पार्ट्स जाेड़कर मशीन को 430 किमी दूर बैतूल सड़क के रास्ते से रवाना किया जाएगा। इस कारण 504 किमी की दूरी कम हाे जाएगी। जिला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट की मशीन पहले गुड़गांव से आने वाली थी। लेकिन गुड़गांव की बैतूल से दूरी 934.9 किमी है। इसलिए मशीन जल्द आ जाएगी। मशीन को जल्द लाने के लिए औरंगाबाद महाराष्ट्र से मशीन बुलवाई जा रही है। औरंगाबाद बैतूल से केवल 430.2 किमी दूर है। इस तरह 504 किमी की दूरी कम तय करनी पड़ेगी। औरंगाबाद से यह मशीन तीन से चार दिन में बैतूल आ जाएगी।

प्रोडक्शन के दौरान नाइट्रोजन और कार्बन-डाईऑक्साइड से ऑक्सीजन अलग करता है जियोलाइट फीव्स
एअरोक्स कंपनी के रीजनल सेल्स मैनेजर सखाराम न्याते ने बताया कि ऑक्सीजन जनरेटर मशीन में जियोलाइट फीव्स पार्ट लगता है। जो कि वातावरण से सामान्य हवा खींचकर नाइट्रोजन और कार्बन-डाइऑक्साइड जैसी गैसों को बाहर फेंक देता है और ऑक्सीजन को पाइप लाइन से पहुंचाता है।

इस उपकरण की फिलहाल शार्टेज है। पहले हम यूएसए से यह पार्ट जहाज से बुलवाते थे, डिमांड भेजने के तीन महीने में मुंबई में बंदरगाह पर यह आ जाता था। लेकिन अब हवाई जहाज से बुलवाने का प्रयास कर रहे हैं। यूएसए में भी इस पार्ट की कमी है। लगभग 30 दिन का समय इस पार्ट के इंतजाम में लग जाएंगे। जर्मनी का कंप्रेशर और अन्य पार्ट इस मशीन में लगा दिए हैं।

खबरें और भी हैं...