पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कबाड़ से सुंदरता:फेंकी खाली बोतलों से ट्रेंचिंग ग्राउंड पर बनाए जा रहे स्वच्छता संदेश

बैतूल21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गाेठाना ट्रेंचिंग ग्राउंड पर शराब की बाेतलाें से लिखा गया स्वच्छता का संदेश। - Dainik Bhaskar
गाेठाना ट्रेंचिंग ग्राउंड पर शराब की बाेतलाें से लिखा गया स्वच्छता का संदेश।
  • कचरे का निपटारा बेहतर ढंग से करें, अपने आसपास का वातावरण साफ रखें जैसे संदेश लिखे

लोगों द्वारा कचरे में फेंकी गई शराब की खाली बोतलों को मिट्टी में गाड़कर नगरपालिका स्वच्छता संदेश लिख रही है। शहर के गोठाना के ट्रेंचिंग ग्राउंड के कैंपस में कबाड़ से निकली कांच की बाेतलाें से स्वच्छता संदेश लिखने शुरू किए हैं। इन संदेशों काे पूरे ग्राउंड के आसपास खाली जगह और घास में लिखा जाएगा। पार्क के बीच में भी इसी तरह के कबाड़ से संदेश दिए जाएंगे। गोठाना में 8 एकड़ पर ट्रेंचिंग ग्राउंड है। यहां पर शहर से निकलने वाला 40 टन कचरा रोज डंप किया जाता है। इस ग्राउंड पर बड़ी संख्या में कांच और प्लास्टिक की बोतलें आती हैं। प्लास्टिक बोतलों को नष्ट करने के लिए अलग बॉक्स में डाल दिया जाता है, लेकिन कांच की बोतलों से अब नपा के कर्मचारी स्वच्छता संदेश लिख रहे हैं।

स्वच्छता निरीक्षक संतोष धनेलिया की पहल पर वार्ड स्वच्छता प्रभारी सतीश कोल्हेकर और उनकी टीम ने कांच की बोतलों को अलग से जमा करना शुरू कर दिया है। इन बोतलों को मिट्टी और घास के टीले बनाकर इन पर संदेश लिखने में उपयोग किया जा रहा है। स्वच्छ भारत 2021, कचरे का निपटारा बेहतर ढंग से करें, अपने आसपास का वातावरण साफ रखें जैसे संदेश लिखे जा रहे हैं। लोहे और धातु की अन्य वस्तुओं से रंगोली बनाई जाएगी: कबाड़ में निकली कांच की बोतलों के साथ अन्य सामान का भी नपा उपयोग करेगी। कबाड़ में निकली ऐसी सभी चीजें जिनका उपयोग सजावट और संदेश के लिए किया जा सकता है उनका उपयोग किया जाएगा। लोहे और धातु की अन्य वस्तुओं से रंगोली भी बनाई जाएगी।

इस तरह के प्रयास अब शुरू हो गए हैं। ग्राउंड के खाली हिस्सों पर भी यह काम करवाया जाएगा। चीनी मिट्टी के कप भी किए जा रहे जमा, लिखेंगे संदेश : चीनी मिट्टी के कप भी यहां जमा किए जा रहे हैं। घास के प्लेटफार्म पर चीनी मिट्टी के बर्तनों और क्रॉकरी से संदेश लिखे जाएंगे। इसके लिए भी तैयारियां शुरू कर दी हैं। कचरे में निकले मिट्टी के बर्तन और मटके भी निकाले जाएंगे। जो कि यहां संदेश लिखने के काम आएंगे।

कबाड़ जमा कर रहे हैं इसका उपयोग करेंगे
कबाड़ से निकली कांच की बोतलों को जमा किया जा रहा है। अधिकांश शराब की बोतलें हैं। ये काफी मजबूत होती हैं। इन्हें ट्रेंचिंग ग्राउंड के आसपास और मिट्टी में गड़ाकर स्वच्छता के संदेश लिखे जा रहे हैं। इन संदेशों को और बढ़ाया जाएगा। अन्य तरह का कबाड़ जो संदेश के काम आ सकता है उसे भी जमा किया जा रहा है। - संतोष धनेलिया, सेनेटरी इंस्पेक्टर, नपा

खबरें और भी हैं...