पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यालय की ऑपरेटर को छेड़ता था अफसर:तीन माह की सजा, लड़की को रोकने वाले युवक पर भी लगाया जुर्माना

बैतूल5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला एवं सत्र न्यायालय। - Dainik Bhaskar
जिला एवं सत्र न्यायालय।

बैतूल जिला पंचायत में पदस्थ रहे एक सहायक परियोजना अधिकारी को कार्यालय की महिला लिपिक से छेड़छाड़ के आरोप में विशेष अदालत ने तीन महीने के सश्रम कारावास की सजा से दंडित किया है। वहीं एक अन्य मामले में अनन्य विशेष अदालत ने एक युवक पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया है।

बैतूल के विशेष न्यायालय ने छेड़छाड़ कांड में आरोपी बनाए गए राजीव गांधी जलग्रहण मिशन के तात्कालीन सहायक परियोजना अधिकारी जयवर्धन सिंह भदौरिया को कार्यालय की ही डाटा एंट्री ऑपरेटर से छेड़छाड़,अभद्रता के आरोप में तीन माह के सश्रम कारावास और 500 रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न चुकाने पर उसे 15 दिन का अतिरिक्त साधारण कारावास भुगताने का आदेश किया गया है।

यह था मामला

2014 में जेएस भदौरिया बैतूल जिला पंचायत में सहायक परियोजना अधिकारी थे। उन पर आरोप था कि कार्यालय में पदस्थ डाटा एंट्री ऑपरेटर से वे गंदी बातें करना, मिस्ड कॉल कर अपने पास बुलाना, भोपाल चलने के लिए दबाव बनाना, गंदे मैसेज भेजना जैसे आरोप थे। पीड़ित को धमकाया गया था कि अगर वह बात नहीं मानेगी तो उसे संविदा नौकरी से निकलवा दिया जाएगा। पीड़िता ने मामले की पुलिस से शिकायत की थी। इसके बाद भदौरिया पर छेड़छाड़ और आईटी एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज किया गया था।

कोचिंग जा रही बालिका को छेड़ा तो हुआ जुर्माना

विशेष लोक अभियोजक शशिकांत नागले के मुताबिक सारणी थाना इलाके में 1 दिसंबर 2014 को कोचिंग जा रही बालिका का रास्ता रोककर आरोपी हीरा विश्वकर्मा ने छेड़छाड़ और गाली-गलौज की थी। इस मामले में अनन्य विशेष न्यायालय पास्को व विशेष न्यायालय एससी एसटी ने आरोपी पर 500 रुपए का जुर्माना किया है। आरोपी इस मामले में 2 दिन जेल रह चुका था।

खबरें और भी हैं...