पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंतजार:स्टॉपेज के लिए नहीं मिली जमीन : कोठी बाजार बस स्टैंड के आधे हिस्से को डेवलप कर रोकेंगे लंबी दूरी की बसें

बैतूल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगरपालिका काे लंबी दूरी की बसों के लिए स्टैंड बनाने हब एंड स्पोक योजना में मिले 50 लाख रुपए

हब एंड स्पोक प्रोजेक्ट के तहत लंबी दूरी की बसों के स्टॉपेज के लिए नगरपालिका को 50 लाख रुपए की मंजूरी तो मिल गई, लेकिन काफी तलाशने के बावजूद एक एकड़ जमीन नहीं मिल रही है। अब विकल्प के रूप में नपा शहर के बीचोंबीच बने कोठी बाजार बस स्टैंड काे ही दो हिस्सों में बांटकर, बस स्टैंड के एक हिस्से में ही सूत्र सेवा और लंबी दूरी की बसों का बस स्टैंड बनाएगी। ऐसे में इन बड़ी बसों के शहर में भीतर आने से ट्रैफिक संबंधी परेशानियां बढ़ जाएंगी। माचना नदी के किनारे पीडब्ल्यूडी की 5 एकड़ जमीन खाली है। नपा ने पीडब्ल्यूडी से यह जमीन मांगी थी लेकिन पीडब्ल्यूडी ने यह जमीन नहीं दी। हालांकि इस जमीन के बीच में बैतूल बाजार नगर परिषद को संपवेल बनाने के लिए जमीन दे दी। यह संपवेल अब लगभग बन गया है। पांच एकड़ जमीन के बीच में संपवेल बनने से यह जमीन एकमुश्त मिलने की उम्मीद पर पानी फिर गया। अब इस जमीन पर अतिक्रमण हाेने लगा है।

शहर के बाहर जमीन मिल जाती तो नहीं लगता जाम
पीडब्ल्यूडी वर्कशॉप की 5 एकड़ जमीन सदर ओवर ब्रिज के अंतिम सिरे पर सड़क से सटी हुई है। यदि यह जमीन मिल जाती तो इंदौर, नागपुर, भोपाल और रायपुर की ओर जाने वाली बसों को शहर के बाहरी हिस्से में स्टॉपेज के लिए बस जगह मिल जाती। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, इसका खामियाजा यह होगा कि लंबी दूरी की बड़ी-बड़ी बसें भविष्य में शहर में से ही होकर जाएंगी। जिसके कारण ट्रैफिक प्रभावित हाेगा।

अतिक्रमण हो रहा है तो जमीन को सुरक्षित कराया जाएगा
पीडब्ल्यूडी वर्कशॉप की इस जमीन के बारे में जानकारी ली जाएगी। यह जमीन पीडब्ल्यूडी की ईएंडएम विंग की हो सकती है। इस जमीन पर यदि अतिक्रमण हो रहा है तो इस जमीन को सुरक्षित करने का प्रयास किया जाएगा। जमीन का आवंटन क्यों नहीं किया जा रहा है इसकी जानकारी ली जाएगी।

कोठी बाजार बस स्टैंड में जगह की है कमी
कोठी बाजार बस स्टैंड 1998 में बनाया था। उस समय बमुश्किल 100 बसें भी नहीं चला करती थी। लेकिन अब बसों की संख्या बढ़ गई है वर्तमान में लगभग 220 बसें चल रही हैं। पहले ही बसों की संख्या बहुत ज्यादा है। बस स्टैंड पर बसें खड़ी करने की जगह नहीं रहती है। ऐसे में लंबी दूरी की बसों के लिए अलग से इसी बस स्टैंड में जगह बनाना बेहद मुश्किल होगा। एडजस्ट करके ही यहां पर इंतजाम हो सकते हैं।

जमीन पर खड़े हैं पीडब्ल्यूडी के पुराने वाहन
पीडब्ल्यूडी की इस जमीन के केवल 3 हजार वर्गफीट के हिस्से में पुराने कंडम वाहन खड़े हैं। किसी समय पीडब्ल्यूडी स्वयं अपनी सड़कें बनाती थी, विभागीय काम होने के कारण उसके अपने बुलडोजर, डंपर हुआ करते थे जो कि अब यहां कंडम पड़े हैं। इस जमीन का कोई उपयोग वर्तमान में नहीं है। केवल इन, खस्ताहाल वाहनों की सुरक्षा के लिए चौकीदार तैनात कर दिया है।
मोहन सिंह डेहरिया, ईई, पीडब्ल्यूडी

जमीन मिल जाती है तो बदलाव करेंगे
^हब एंड स्पोक प्रोजेक्ट के तहत सूत्र सेवा बसों के लिए बस स्टैंड बनाया जाना है। जमीन तलाश रहे हैं। पीडब्ल्यूडी से जमीन मांगी थी, लेकिन मिली नहीं। वर्तमान में कोठी बाजार बस स्टैंड के ही एक हिस्से को हब एंड स्पोक प्रोजेक्ट के बस स्टैंड डेवलप किया जाएगा। यदि जमीन मिल जाती है तो उस हिसाब से काम करेंगे।
अक्षत बुंदेला, सीएमओ, नपा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser