पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बदलाव:अब केवल 3 दिन रहेगा लॉकडाउन, ट्रेन से लौटे मजदूरों को पैदल जाना पड़ा गांव

बैतूल6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैतूल। ट्रेन से आने के बाद साधन नहीं मिलने पर पैदल रानीपुर जाते लोग।
  • तीन ट्रेनों से 32 लोग आए, लेकिन घर जाने के लिए नहीं मिले ऑटाे व अन्य साधन
  • लॉकडाउन में एक दिन की कटौती की
Advertisement
Advertisement

आज से शुरू हुआ चार दिन का लॉकडाउन अब केवल 3 दिन का रहेगा। प्रशासन ने 1 दिन कम करने का निर्णय लेकर इसे लागू कर दिया है। अब 3 अगस्त तक ही लॉकडाउन रहेगा। इधर लॉकडाउन के पहले दिन शनिवार काे ट्रेन से आने वाले यात्रियों काे उनके घराें तक पहुंचने के लिए ऑटाे या अन्य वाहन नहीं मिले। इस कारण ये लाेग पैदल अपने घरों के लिए रवाना हुए। जगह-जगह सड़क किनारे की बेंचों पर आराम करते हुए रुकते-रुकते पानी की बौछार की मार झेलते हुए ये लाेग अपने घराें काे पहुंचे।

जिला प्रशासन ने क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में लॉकडाउन में एक दिन की कटौती का निर्णय लिया। बैठक में 4 दिन की अवधि को बहुत ज्यादा माना गया। इसलिए लंबी अवधि की जगह छोटे-छोटे टुकड़ों में कम दिन के लॉकडाउन रखने का निर्णय लिया गया।

मजबूरी : संघमित्रा एक्सप्रेस के बैतूल पहुंचे यात्री, जाना था रानीपुर, हाेते रहे परेशान

ट्रेन से लौटे मजदूर हाेते रहे परेशान

बड़ी संख्या में मजदूर ट्रेन से दूसरे राज्यों और अन्य जिलों शनिवार काे बैतूल लाैटे। ट्रेनों से तो यह लाेग यहां तक आ गए, लेकिन उनके पास घर तक पहुंचने के लिए साधन नहीं था। वहीं लॉकडाउन के कारण ऑटो बंद होने से लोग वाहनों के लिए परेशान हाेते रहे उन्हें रानीपुर जाने के लिए कोई साधन नहीं मिला। इस कारण बहुत से मजदूर पैदल ही अपने घरों की ओर चल पड़े।

कॉलेज चौक के समीप से अपने घर रानीपुर की ओर जा रहे जगदीश और उनके परिवार की दो महिलाएं जब थक गए तो सड़क किनारे लगी बेंचों पर सुस्ताने लगीं। उन्होंने बताया कि कर्नाटक से हम लोग संघमित्रा एक्सप्रेस से आए हैं अब साधन नहीं मिल रहा है, पैदल ही रानीपुर की ओर जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने भी उनकी कोई मदद नहीं की। इस कारण परेशान होते रहे।

तीन ट्रेनों से 32 यात्री आए बैतूल में, 11 लोग हुए रवाना

लॉकडाउन के पहले दिन भी ट्रेनों से आवाजाही जारी रही। दानापुर-सिकंदराबाद ट्रेन से 3 लोग गए, 16 लोग आए। मैसूर पटना ट्रेन से 8 लोग गए चार लोग आए। पटना मैसूर ट्रेन से कोई नहीं गया लेकिन 12 लोग आए। इस तरह कुल 32 लोग आए और 11 लोग यहां से दूसरे जिलाें के लिए रवाना हुए।

शहर के सभी पेट्रोल पंप रहे बंद, परेशान हुए लोग

आवश्यक सेवा में लगे वाहनों को आन-जाने की अनुमति तो थी, लेकिन उन्हें वाहन में डालने के लिए शहर में पेट्रोल-डीजल नहीं मिला। दरअसल शहर के सभी पेट्रोल पंप 1 दिन पहले शुक्रवार रात को 8 बजे ही बंद हो गए थे। आवश्यक सेवा के लिए वाहन चलाना था उन्हें शनिवार को पेट्रोल-डीजल नहीं मिल सका।

चौराहों पर बेरोकटोक आवाजाही जारी रही

शहर के प्रमुख चौराहों पर किसी तरह की कोई रोक-टोक नहीं थी। हालांकि पुलिस बल कम होने के कारण नगर रक्षा समिति जैसे संगठनों के वालंटियर तैनात किए जाने की बात तय हुई थी, लेकिन वे भी चौराहों से नदारद रहे, लोग बिना रोक-टोक आवाजाही करते रहे।

घरों तक पहुंचने के इंतजाम करेंगे

लॉकडाउन का टाइम पीरियड 4 दिन से घटाकर 3 दिन कर दिया गया है। ट्रेन से आए यात्रियों के घरों तक पहुंचने की व्यवस्था बनाने का प्रयास किया जाएगा। चौराहों पर बेहतर जांच के इंतजाम किए गए जाएंगे।
राकेश सिंह, कलेक्टर, बैतूल

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement