परेशानी:सारनी की 2 यूनिट ही चालू इसलिए कोयला संकट नहीं, बंद 4 इकाई चालू कर दी जाएं तो खत्म हो जाएगा कोयला स्टाॅक

बैतूलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • {52 हजार टन कोयले का स्टॉक, एक सप्ताह नहीं होगी परेशानी

सारनी के सतपुड़ा थर्मल पावर प्लांट की 6, 7, 8 और 9 नंबर की चारों पुरानी इकाई बंद पड़ी हैं। वर्तमान में 10 और 11 नंबर की यूनिट चालू हैं। इस कारण कोयले का संकट नहीं है। लेकिन बंद इन चारों यूनिट को चालू कर दिया जाए तो कोयले का पूरा स्टॉक खत्म हो जाएगा। केवल दो यूनिट चालू होने और बिजली का उत्पादन क्षमता से लगभग तीन गुना कम बिजली का उत्पादन हो रहा है। वर्तमान में प्लांट में रोजाना साढ़े सात हजार टन कोयले आ रहा है। 52 हजार टन कोयला स्टॉक में रिजर्व है। इस कारण कोयला नहीं मिलने पर भी दो यूनिट एक सप्ताह तक निरंतर उत्पादन दे सकती हैं।

सारनी प्लांट की कुल क्षमता 1330 मेगावाट है। 830 मेगावाट क्षमता की 6, 7, 8 और 9 नंबर की यूनिट बंद हैं। 10 और 11 नंबर की इकाई से 250- 250 मेगावाट उत्पादन हो रहा है। पुरानी चारों यूनिट्स का यदि मेंटेनेंस हो जाए तो यह फिर से पूरी क्षमता के साथ उत्पादन दे सकती हैं। थर्मल पावर प्लांट की 10 और 11 नंबर यूनिट 2013 में बनी हैं इसी कारण चालू हैं। बाकी चार अन्य यूनिट 1979-1980 के आसपास की बनी हुईं हैं, बिजली उत्पादन करने में दोगुना से ज्यादा कोयले खा रहीं थी, इसलिए इन्हें बंद कर दिया है।

11 नंबर यूनिट का चल रहा मेंटेनेंस इसलिए एक से ही उत्पादन

6 नंबर यूनिट 200 मेगावाट क्षमता की थी, वहीं 7, 8 और 9 नंबर यूनिट 210-210 मेगावाट क्षमता की हैं। इन यूनिट्स को रिनोवेट करने, इनके पार्ट्स बदलवाने से इनमें कोयले की खपत से कम हो सकती है और यह फिर से उत्पादन दे सकती हैं। इस कारण अब केवल 10 नंबर और 11 नंबर की 250-250 मेगावाट की उत्पादन क्षमता वाली यूनिट्स पर है। वर्तमान में 11 नंबर यूनिट का मेंटेनेंस किया जा रहा है इस कारण केवल 10 नंबर यूनिट ही 250 मेगावाट का उत्पादन दे रही है।

खबरें और भी हैं...