अन्नदाता परेशान / खरीदी पूरी हाेने का दावा कर 122 केंद्र किए बंद, कई किसान सामने आए जिनका गेहूं तुला ही नहीं

122 centers closed by claiming to be complete, many farmers came in whose wheat was not weighed
X
122 centers closed by claiming to be complete, many farmers came in whose wheat was not weighed

  • 26 मई तक खरीदी करने के हैं आदेश, 5 दिन पहले ही केंद्र बंद, 2828 किसानों का गेहूं तुलना है बाकी
  • किसान कांग्रेस ने राज्यपाल के नाम डिप्टी कलेक्टर काे दिया ज्ञापन, आंदाेलन की दी चेतावनी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:37 AM IST

हरदा. जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी आखिरी तारीख से 5 दिन पहले ही 122 केंद्राें पर बंद कर दिए। प्रशासन का दावा है कि इन केंद्राें पर खरीदी पूरी हाे गई। किसान भी नहीं आ रहे थे। इस कारण भाेपाल से ही इन्हें बंद किया गया है। वहीं शुक्रवार काे बंद किए केंद्राें से जुड़े 300-400 क्विंटल गेहूं वाले ऐसे किसान सामने आए, जिनका दाे बार मैसेज आने के बाद भी गेहूं समिति ने नहीं ताैला। कभी भीड़, कभी हम्माल ताे कभी बारदान की कमी का हवाला दिया। अब किसानों काे खरीदी अवधि खत्म हाेने के मैसेज भेज दिए हैं। इस बार 43816 किसानों ने पंजीयन कराया। 2828 किसान अभी बाकी हैं जिनका गेहूं नहीं बिका है। किसान कांग्रेस ने इस मामले में 15 बिंदुओंं का राज्यपाल के नाम डिप्टी कलेक्टर रीता डेहरिया काे ज्ञापन दिया। व्यवस्था सुचारू न हाेने पर आंदाेलन की चेतावनी दी।
खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग के उप सचिव उमाकांत पांडेय ने 8 मई काे मप्र के सभी कलेक्टरों काे पत्र जारी किया था। इसमें 26 मई तक केंद्र चालू रखने के आदेश दिए थे।

यह रखीं मांगें

  • समर्थन मूल्य पर की गई खरीदी का भुगतान तुरंत हाे। 
  • गेहूं ताैल के बाद जिनके बिल नहीं बने उनके किसानों के तुरंत बिल बनाएं।
  • जिन्हें मैसेज भेजे, लेकिन गेहूं नहीं लिया,उनसे खरीदी की जाए।
  • चना खरीदी में हाे रही धांधली पर राेक लगे,तुरंत ताैल हाे।
  • बीमा क्लेम की अनियमितता की जांच कराकर किसानों काे भुगतान हाे।
  • केसीसी धारी किसानों की 6 माह का ब्याज माफ कर वसूली राेकें।
  • किसानों के 6 माह के बिजली बिल माफ हाें। गरीब मजदूरों को फ्री बिजली दें।
  • निजी फाइनेंस कंपनियों की ईएमआई 6 माह के लिए वसूली रोक कर ब्याज माफ किया जाए।
  • किसानों को सहकारी समितियों से  नगद ऋण, खाद बीज दिलाया जाए।
  • समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी में लगे हम्मालों काे मजदूरी दी जाए।

किसान कांग्रेस ने दी आंदाेलन की चेतावनी

5 दिन पहले खरीदी बंद हाेने काे लेकर राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेशाध्यक्ष हेमंत टाले, किसान कांग्रेस प्रदेश सचिव माेहन सांई, जिलाध्यक्ष रविशंकर शर्मा ने डिप्टी कलेक्टर काे ज्ञापन दिया। व्यवस्था सुचारू न हाेने पर आंदाेलन की चेतावनी दी। उन्होंने समर्थन मूल्य पर मक्का खरीदी जल्द शुरू करने और कर्ज वसूली करने वालाें पर कार्रवाई की मांग की।

ये हाे सकते हैं विकल्प
43816 किसानों ने गेहूं बेचने पंजीयन कराया था। इनमें कुछ किसान हर बार ऐसे हाेते हैं, जाे कुल उत्पादन की मात्रा में से गेहूं, बिजाई या घर में उपयोग या किसी रिश्तेदार परिचित व्यक्ति काे देने के लिए बचा लेते हैं। इस कारण उनके खाते में उत्पादन की कुल तय मात्रा से कम गेहूं तुलता है। ऐसे किसानों के खाताें में अब विक्रय से वंचित किसानों का गेहूं ताैल कराने की अधिकारी सलाह दे रहे हैं।

दूसरे केंद्र पर करा सकते हैं ट्रांसफर
जाे किसान गेहूं नहीं बेच पाए हैं वे उपज बेचने के लिए अपना पंजीयन दूसरे केंद्राें पर ट्रांसफर करा सकते हैं। जिससे वहां ताैल हाे सके। अभी 34 केंद्राें पर  खरीदी चल रही है। लेकिन ताैल की काेई गारंटी नहीं है। अभी उनका ताैल चल रहा है, जिनके पुरानी तारीख में समितियाें ने टाेकन निकाल लिए हैं।

ये है किसानों की आपबीती
मनाेज विश्नाेई, ऐड़ाबेड़ा - दाे बार उपज लेकर पहुंचे लेकिन नहीं की तुलाई
छिड़गांव केंद्र पर मेरा 320 बाेरे गेहूं का ताैल हाेना था। 24 अप्रैल काे मैसेज अाया। छलना व गेहूं लेकर समिति पहुंचे। समिति सदस्यों ने भीड़ ज्यादा हाेने से बाद में अाने काे कहा। फिर 15 मई की तारीख दी गई। तब भी समिति ने हम्माल नहीं हाेने का हवाला दिया।  शुक्रवार काे संपर्क किया ताे अवधि खत्म हाेने का मैसेज भेज दिया।

ओपी सेमरे, कुकरावद - कभी हम्माल ताे कभी बारदान कम हाेने का कहकर लाैटाया
कुकरावद गांव से लगे सुल्तानपुर खरीदी केंद्र पर गेहूं का ताैल हाेना था। दाे बार मैसेज आए। दाेनाें बार केंद्र पर जाकर समिति वालाेें से गेहूं ताैलने काे कहा, लेकिन कभी हम्माल, कभी बारदान की कमी का हवाला देकर बाद में आने काे कहा गया। अब खरीदी बंद हाे गई।

अनुराग वर्मा, कलेक्टर, हरदा बोले- यदि काेई किसान वंचित है ताे व्यवस्था करेंगे
4.86 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी हाे चुकी। 122 उन केंद्राें काे बंद किया है, जहां खरीदी पूरी हाे चुकी। 2-3 दिन से काेई किसान गेहूं लेकर नहीं पहुंचा। 21 मई से पहले जितने मैसेज आए सभी का गेहूं ताैलने के निर्देश दिए थे। यदि बंद हाे चुके केंद्राें पर गेहूं बेचने से काेई किसान वंचित है ताे व्यवस्था करेंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना