पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जीवनदान:ब्लड बैंक में 3 यूनिट रक्त बचा, हरदा हेल्प ग्रुप कल लगाएगा शिविर

हरदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरदा। काेराेना काल में भी लगा चुके शिविर। - Dainik Bhaskar
हरदा। काेराेना काल में भी लगा चुके शिविर।
  • जरूरतमंदों को खून उपलब्ध कराने पहल, रक्तदानवीरों को मौके पर ही दिए जाएंगे उपहार

जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में खून की कमी आ गई है। काेराेना के संक्रमण के दाैरान रक्तदान शिविर नहीं लगने से यह स्थिति बनी है। महामारी के दाैर में भी लाेगाें व सामाजिक संगठनों के युवाओं ने रक्तदान किया। ब्लड बैंक में सभी ग्रुप का 10-15 यूनिट खून रखा जाता है। अभी काॅमन ग्रुप का केवल 2-3 यूनिट खून बचा है।

स्टाॅक में निगेटिव समूह का केवल 2-3 यूनिट खून ही रखा जाता है। इस खून का 30 दिन ही उपयाेग किया जा सकता है। खून की कमी काे दूर करने हरदा हेल्प ग्रुप 20 जून काे सुबह 11 बजे सेठ हरिशंकर अग्रवाल मांगलिक भवन में रक्तदान शिविर लगाएगा। इसमें रक्तदान करने वाले रक्तवीराें काे उपहार देकर सम्मानित किया जाएगा।
लाॅकडाउन में किए रक्तदान से गर्भवती और जरूरतमंद काे मिला जीवन

ब्लड बैंक में लगभग सभी समूह के खून की कमी हाेने लगी है। काेराेना के संक्रमण के बीच में भी यह स्थिति बनी थी, लेकिन युवाओं व राजनीतिक व सामाजिक संगठनों से जुड़े लाेगाें ने अपने-अपने स्तर पर रक्तदान शिविर आयाेजित कर रक्तदान किया। जिससे गर्भवती महिलाओं व अन्य लाेगाें काे समय पर खून मिल सका।

व्यवस्था के अनुसार अस्पताल के ब्लड बैंक में काॅमन समूह के खून की उपलब्धता 10 से 15 यूनिट रखी जाती है। अभी ए और बी पॉजिटिव ग्रुप का केवल 2-3 यूनिट रक्त ही बचा है। ओ पॉजिटिव ग्रुप की उपलब्धता पर्याप्त है, क्याेंकि यह काॅमन ग्रुप है। अभी ए व बी पॉजिटिव ग्रुप की कमी है। हरदा हेल्प ग्रुप ने इस कमी काे दूर करने के आगे आया है।

ग्रुप के धीरज अग्रवाल, नितेश अग्रवाल, कीर्ति सेन, शिशिर बंसल ने बताया कि युवा हर वर्ग की हर संभव मदद के लिए तैयार है। खून की कमी काे दूर करने रविवार काे सुबह 11 बजे से सेठ हरिशंकर अग्रवाल मांगलिक भवन में रक्तदान शिविर लगाया जाएगा।

सिविल सर्जन डॉ. शिरीष रघुवंशी ने बताया कि निगेटिव ग्रुप का खून दो या तीन यूनिट ही स्टाॅक में इमरजेंसी के लिए रखा जाता है इस समूह के लोगों के मोबाइल नंबर रिकॉर्ड में रखे जाते हैं जिससे जरूरत पड़ने पर संपर्क करके बुलाया जाता है।

हरदा वासियों व यहां से विदेश गए लोगों ने 8.90 लाख रु. की मदद की
हरदा हेल्प ग्रुप 20 अप्रैल से लगातार सभी की मदद कर रहा है। हरदा के अलावा देश विदेश में जा बसे यहां के रहवासियों की मदद से 8.90 लाख रुपए का सहयोग मिला। इससे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, सिलेंडर व अन्य जरूरी सामान खरीदा। जरूरतमंद लाेगाें काे ग्रुप ने सिलेंडर भरवाकर घर में आइसोलेट व्यक्तियों के लिए दिए।

काेराेनाकाॅल में रक्तदान किया। अस्पताल नर्सिंग हाेम के राेगियाें व उनके परिजनों काे सुबह शाम भाेजन के 25 हजार पैकेट उपलब्ध कराए। लॉकडाउन में काम छूटने से परेशान परिवारों काे बिना किसी प्रचार प्रसार के गाेपनीय ताैर पर राशन किट घर पहुंचाई। अब खून की जरूरत हाेने पर शिविर की पहल की है, जिसमें रक्तवीराें काे उपहार देकर सम्मानित करेंगे।

खबरें और भी हैं...