नवजात की हमीदिया अस्पताल में होगी जांच:घुटने से उल्टे पैराें के साथ जन्मी बच्ची भाेपाल रेफर

हरदाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हरदा। बच्ची काे भाेपाल ले जाती मां, दादी और पिता। - Dainik Bhaskar
हरदा। बच्ची काे भाेपाल ले जाती मां, दादी और पिता।
  • माता-पिता व दादी के साथ भोपाल पहुंची

घुटने से उल्टे पैराें के साथ जन्मी बच्ची काे इलाज के लिए भाेपाल रेफर कर दिया है। माता-पिता और दादी के साथ बच्ची को एंबुलेंस से भेजा है। हमीदिया अस्पताल में बच्ची के दिल, किडनी सहित अन्य अंगाें की जांच हाेगी। इसके बाद विशेषज्ञ चिकित्सक आगे निर्णय लेंगे। आरबीएसके से बच्ची का पूरा इलाज सरकार नि:शुल्क कराएंगे। बच्ची का वजन कम है।

उसमें पीलिया के भी लक्षण है। इसी वजह से बच्ची काे एसएनसीयू में भर्ती कराया था। हड्डी राेग विशेषज्ञ डाॅ. कपिल पटेल की सलाह पर बच्ची काे रेफर किया है। मालूम हाे, साेमवार काे घुटने से उल्टे पैराें के साथ जन्मी बच्ची ने जिला अस्पताल में जन्म लिय। सुबह एसएनसीयू में शिशु राेग विशेषज्ञ डाॅ. सनी जुनेजा ने बच्ची का चेकअप किया।
भोपाल के हमीदिया अस्पताल के हड्डी रोग विशेषज्ञ डाॅ. राजेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि यह कंजेनाइटल बीमारी है। यह बीमारी अनुवांशिक होती है। साथ ही दूसरी थ्योरी यह भी है कि गर्भ में जगह कम होने और बच्चे का साइज ज्यादा होने से भी पैर पीछे मुड़ जाते हैं।
देर रात माता-पिता और दादी आए

बच्ची के अटेंडर के रूप में जिला अस्पताल में मां पप्पी, पिता विक्रम और दादी मुनिया बाई निवासी झांझरी थे। लेकिन मंगलवार काे दाे घंटे तक वे अस्पताल में नहीं मिले। रात करीब 9 बजे अचानक दादी और मां अस्पताल में पहुंच गईं। दाेनाें ने कहा कि बच्ची का लालन-पालन हाेगा। डाॅक्टराें ने उन्हें नि:शुल्क इलाज कराने का भराेसा दिलाया है।

मामला असामान्य है
घुटने से उल्टे पैर के साथ जन्मी बच्ची का मामला असामान्य है। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम आरबीएसके में बच्ची का नि:शुल्क इलाज कराया जाएगा। इस याेजना में बच्ची के इलाज का पूरा खर्च शासन उठाएगी।-डाॅ. दीपक दुगाया, एसएनसीयू प्रभारी, जिला अस्पताल हरदा
बच्ची की इकाे, किडनी सहित अन्य जांचें हाेना है। हड्डी राेग विशेषज्ञ की सलाह के बाद बच्ची काे भाेपाल रेफर कर दिया है।-
डाॅ. सनी जुनेजा, शिशु राेग विशेषज्ञ हरदा

खबरें और भी हैं...