पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रुका विकास:एक की जगह दाे साल में पूरा हाेगा छीपानेर पुल, 2 होस्टल और काॅलेज भवन अगले साल तक बनेगा

हरदा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरदा। मजदूराें की कमी से बंद हुअा छीपानेर पुल का निर्माण। - Dainik Bhaskar
हरदा। मजदूराें की कमी से बंद हुअा छीपानेर पुल का निर्माण।
  • लॉकडाउन के बाद अब धीरे-धीरे लाैटने लगे मजदूर, फिर भी निर्माण कार्य में तेजी लाने में लगेगा समय
  • इस सत्र में दाेनाें छात्रावास में विद्यार्थियों काे नहीं मिल पाएगा प्रवेश

काेराेना संक्रमण काे राेकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन से निर्माण कार्य पिछड़ गए हैं। इससे अब तय समय-सीमा में निर्माण कार्य पूरे नहीं हाे सकेंगे। लॉकडाउन में हरदा जिले के छीपानेर से सीहोर जिले के बड़ी छीपानेर तक 28 कराेड़ 25 लाख रुपए से बन रहे पुल का निर्माण अब एक साल की बजाए दाे साल में हाे पाएगा। इसी तरह शासकीय काॅलेज में बन रहे दाे मंजिला भवन का निर्माण भी तीन माह पिछड़ गया है। इसी साल सितंबर तक बनकर तैयार हाेने वाला काॅलेज भवन अब अगले साल तक पूरा हाे पाएगा।

यही हाल उत्कृष्ट स्कूल के पीछे 100-100 सीटर के दाे छात्रावासों के हैं। दाेनाें छात्रावासों का निर्माण रुका हुआ है। इसी सत्र में छात्रावास में विद्यार्थियों काे प्रवेश दिया जाना था। लॉकडाउन की वजह से अब छात्रावासों का निर्माण 2021 तक ही पूरा हाेने की उम्मीद है। इस कारण इस बार भी बच्चों काे प्रवेश नहीं मिल पाएगा।  उत्कृष्ट स्कूल परिसर के पीछे तीन महीने काम बंद रहा। अब मजदूर लाैटे हैं। इसमें भी मजदूरी की कमी है। इससे एक हॉस्टल का निर्माण शुरू हाे सका है। दूसरे का बंद है। सबकुछ ठीक रहा ताे 3.87-3.87 कराेड़ रुपए से बनने वाले दाेनाें छात्रावास अब अगले वर्ष मई-जून तक पूरे हाेने की उम्मीद है।

छीपानेर पुल बनने से भोपाल जाने में 40 किमी का फेर बचेगा
28 कराेड़ 25 लाख रुपए की लागत से बन रहे छीपानेर पुल का निर्माण हाेने के बाद हरदा से भाेपाल जाने वालाें का 40 किमी का फेरा बचेगा। लेकिन जिले के लाेगाें काे अब और इंतजार करना हाेगा। लॉकडाउन नहीं लगता ताे छीपानेर पुल का निर्माण 2021 अप्रैल तक हाेना था। लेकिन अब तीन माह से काम बंद है। अब बारिश शुरू हाे गई है। इसमें काम नहीं हाे सकेगा। हालांकि, पुल निर्माण के मजदूर लाैटने लगे हैं। लेकिन अब बड़ी छीपानेर के किनारे नर्मदा का बहाव अधिक हाेने की वजह से काम में दिक्कतें आएंगी।

कहीं मजदूराें की कमी ताे कहीं शुरू नहीं हाे पाए निर्माण
काम पिछड़ने की वजह से निर्माण कार्याें की लागत भी बढ़ेगी। इसमें ठेकेदार एस्टीमेट बढ़ाने की मांग कर सकते हैं। हालांकि, अधिकारी इससे इत्तफाक नहीं रखते। अधिकारियों का कहना है निर्माण कार्य पिछड़े हैं, लेकिन अभी तक एस्टीमेट रिवाइज करने की काेई प्लान नहीं है। दैनिक भास्कर ने जिले के तीन निर्माण कार्याें की पड़ताल की ताे हकीकत पता चली।

गति धीमी हाेने के कारण अब दाे साल का समय लगेगा
लाॅकडाउन के तीन माह काम पूरी तरह बंद रहा। अब बारिश में भी काम नहीं हाे पाएगा। हालांकि, पुल निर्माण के मजदूर लाैटने लगे हैं। अभी बारिश बंद है ताे कुछ काम भी शुरू कर दिया है। लेकिन काम की गति धीमी है। लॉकडाउन की वजह से अब छीपानेर पुल का निर्माण पूरा हाेने में एक की बजाए दाे साल लग सकते हैं। आरएस कुशवाह, सब इंजीनियर, सेतु निगम, हाेशंगाबाद

निर्माण शुरू हाे गए हैं, 3-4 महीने में लागत नहीं बढ़ेगी
लाॅकडाउन में निर्माण पूरी तरह बंद हो गए थे। अब साइट पर मजदूर आने लगे हैं। मजदूराें की कमी प्रदेश स्तर का मसला है। इसके बाद भी जिले में मजदूर लाैट आए हैं। निर्माण शुरू हाे गया हैं। काम पूरा हाेने में 3-4 माह की देरी हाेगी। इतने समय में लागत नहीं बढ़ेगी।- आरसी तिराेले, ईई, पीडब्ल्यूडी (पीआईयू)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें