पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आर्थिक घोटाले की जांच:ईओडब्ल्यू ने हंडिया तहसील के 16 किसानों की जमीन की जानकारी मांगी

हरदा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मामला 2008 में ऋण माफी में भूमिहीन किसानों के नाम पर कर्ज माफी का

यूपीए सरकार द्वारा 2008 में किसानों के लिए लाई गई ऋण माफी राहत योजना में हुए आर्थिक घोटाले की जांच धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगी है। हाल ही में आरटीआई से जानकारी लेने पर यह चौंकाने वाले खुलासे भी सामने आए। सहकारी समिति और बैंक से जुड़े लोगों ने भूमिहीन किसानों के नाम पर कर्ज माफ कर गोलमाल किया। ऋण माफी योजना में करीब 25 करोड़ 97 लाख 76 हजार रुपए का घोटाला होना बताया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो ने तहसीलदार के नाम एक पत्र जारी किया है।

इसमें सेवा सहकारी समिति मर्यादित हंडिया के अंतर्गत आने वाले विभिन्न गांव के किसानों की भूमि के संबंध में जानकारी मांगी है। मांगी गई जानकारी में किसान का नाम भूमि खसरा नंबर रकबा आदि की जानकारी मांगी है। सूत्रों के अनुसार इस मामले में यूडब्ल्यू में धारा 420, 467, 468, 471, 409, 120 बी और 13 सहपाठित धारा 13 दो के तहत प्रकरण दर्ज है। ईओडब्ल्यू द्वारा जारी पत्र में सेवा सहकारी समिति मर्यादित हंडिया के अंतर्गत आने वाले ग्राम हंडिया भमोरी हीरापुर नीमा खेड़ी कुसिया चौकी भादू गांव बागरोल डूमलाय के किसानों को समिति का ऋणी सदस्य बताकर उनके नाम से शासन से राशि प्राप्त की गई।

ईओडब्ल्यू ने इन गांव के किसानों के नाम से 31 मार्च 1997 से 31 मार्च 2007 के बीच भूमि होने संबंधी जानकारी उपलब्ध कराने को कहा है। ईओडब्ल्यू के इंस्पेक्टर राकेश सिंह बघेल के हस्ताक्षर से जारी इस पत्र में कहा है कि विशेष न्यायालय के आदेश पर जानकारी तुरंत पेश की जाए। उन्होंने संबंधित पटवारियों से जानकारी प्राप्त कर प्रोफार्मा में भरकर 15 दिन में प्रकोष्ठ को उपलब्ध कराने को कहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें