दीपोत्सव:2 साल बाद जमकर हुई आतिशबाजी, शुभ मुहूर्त में की पूजा

हरदा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जगह- जगह मना अन्नकूट उत्सव, अग्रवाल भवन के महालक्ष्मी मंदिर में दोपहर 12 बजे हुई महाआरती

दीपोत्सव पर गुरुवार को महालक्ष्मी का घरों घर पूजन किया गया। कोरोना महामारी के चलते दो साल बाद बाजार भी गुलजार रहे। शहर भी रोशनी से जगमगा उठा। इंदाैर राेड के सेठ हरिशंकर अग्रवाल धर्मशाला स्थित महालक्ष्मी मंदिर में विधान से पूजन हुआ। महालक्ष्मी का आकर्षक शृंगार किया गया।

1008 दीपाें से महाआरती की गई। घराें में भी शुभ मुहूर्त में महालक्ष्मी का पूजन किया। व्यापारियों ने बही- खातों का पूजन किया। इसके बाद शाम से लेकर देर रात तक जोरदार आतिशबाजी हुई। रंग-बिरंगी राेशनी से आसमान जगमगा उठा। दूसरे दिन शुक्रवार काे अन्नकूट उत्सव को लेकर शहर में सुबह से बाजार में रौनक देखी गई। मंदिरों काे आकर्षक रूप से सजाया गया।

महालक्ष्मी का किया आकर्षक शृंगार

सेठ हरिशंकर मांगलिक भवन अग्रवाल भवन के महालक्ष्मी मंदिर में दीपावली पर समाज के अध्यक्ष अनूप अग्रवाल ने बताया कि राेजाना 5 पंडितों ने माता लक्ष्मी का पूजन किया। दीपावली पर रात 11.30 बजे 1008 दीपों से महाआरती की। शुक्रवार काे अन्नकूट पर महालक्ष्मी काे 56 प्रकार के व्यंजनों का भाेग लगाया गया।

पुरानी गल्ला मंडी में मनाया अन्नकूट महाेत्सव

शुक्रवार काे पुरानी गुल्ला मंडी स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर में अन्नकूट महोत्सव रखा गया। इसमें दोपहर 12 बजे महाआरती हुई। इसके बाद अन्नकूट महोत्सव में लाेगाें ने प्रसादी ग्रहण की।

बुजुर्गाें ने मनाया दीपाेत्सव

​​​​​​​शहर के वृद्धाश्रम में रहने वाले बुजुर्गों ने धूमधाम से दीपोत्सव मनाया। बेसहारा और परिवार से दूर अकेले रहने वाले बुजुर्गों ने आपस में मिलजुलकर दीपावली का त्योहार मनाया। इस दौरान वृद्धाश्रम में रहने वाले बुजुर्गों ने कहा कि अब यही उनका परिवार है। उन्हें आपस में मिलजुलकर यहीं रहना है और जीवन का अंतिम पड़ाव काटना है। खुशी के साथ सभी ने फुलझड़ी जलाई और एक-दूसराें काे मिठाई खिलाई। बुजुर्गों ने कहा कि अब यहीं उनका परिवार है।

खबरें और भी हैं...