• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Harda
  • Gudi Padwa, Chaiti Chand And Chaitra Navratri, From Today Onwards, Worshipers Of Goddess Durga Will Be Worshiped By Goddess Durga Till The End Of The Day, Praying For Liberation From Kareena.

शुभ मंगल त्रिकोणीय संयाेग:गुड़ी पड़वा, चैती चांद और चैत्र नवरात्रि आज से, देवी के उपासक मंदिर व घराें में घट की स्थापना कर नाै दिनाें तक मां दुर्गा की करेंगे आराधना, काेराेना से मुक्ति के लिए करेंगे प्रार्थना

हरदा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मंगलवार काे शुभ मंगल त्रिकोणीय संयोग बन रहा है। एक ही तिथि में तीन खास दिन आ रहे हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार नए साल की शुरुआत हाेगी। हिंदू धर्म में परंपरानुसार लाेग अपने अपने घराें के ऊपर गुड़ी बांधेंगे। वहीं सिंधी समाज द्वारा चैती चांद के रूप में भगवान झूलेलाल का जन्मोत्सव मनाएगा। वहीं नवरात्रि के दाैरान देवी के उपासकों द्वारा देवी मंदिर व घराें में घट की स्थापना कर नाै दिनाें तक मां दुर्गा की आराधना की जाएगी। इस दाैराना काेराेना के लिए आखिरी दिन आहुतियां छाेड़ी जाएंगी।

नवरात्रि : 9 दिन तक चलेगी देवी की उपासना

देवी की उपासना 9 दिनाें तक चलेगी। देवी मंदिरों में सीमित संख्या में लाेग पाठ करेंगे। मंदिरों में देवी भक्त जल चढ़ाने व शाम काे महिलाएं सीमित संख्या में देवी के जस गाने के लिए एकत्रित हाेंगी। कई लाेग देवी काे प्रसन्न करने के लिए कठिन आराधना करते हैं। कुछ उपासक एक लाैंग पर पूरा दिन बिताते हैं। कुछ लाेग शरीर पर जवारे बाेते हैं। आखिरी दिन हवनकुंड में आहुतियां छाेड़कर काेराेना से मुक्ति की प्रार्थना की जाएगी।

गुड़ी पड़वा: बांस में कलश के साथ बांधेंगे गुड़ी
हिंदू कैलेंडर के अनुसार हिंदू धर्मावलंबियों द्वारा हर साल नया वर्ष गुड़ी पड़वा के दिन मनाते हैं। हिंदुओंं और महाराष्ट्रीयन समाज के परिवार घर के ऊपर बांस में नए कपड़े व तांबे के कलश के साथ गुड़ी बांधी जाती है। उदय बेलापुरकर ने बताया कि इस दिन नीम, सिका हुआ धना आदि काे मिक्स कर पंजीरी बनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन यह कड़वा प्रसाद खाने से शरीर कई तरह के राेगाें से मुक्त हाेता है।
चैती चांद : नहीं हाेंगे सामूहिक कार्यक्रम, शोभायात्रा निरस्त

चैती चांद का त्योहार मुख्य रूप से सिंधी समाज द्वारा झूलेलाल जयंती के रूप में बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। इस साल काेराेना के संक्रमण के कारण सामूहिक कार्यक्रम निरस्त किए हैं। समाजसेवी वासुदेव पेशवानी ने बताया कि मंदिर में सजावट की है। 7 दिन से चल रहे गुरु साहिब पाठ का 10 बजे समापन हाेगा। अारती कीर्तन के बाद प्रसादी के पैकेट बांटे जाएंगे। जुलूस, सांस्कृतिक कार्यक्रम, शोभायात्रा निरस्त कर दिए हैं।

खबरें और भी हैं...