ऑनलाइन वाद- विवाद प्रतियाेगिता / सिनर्जी संस्थान द्वारा आयोजित प्रतियोगिता में युवाओंं ने मजदूरों के हिताें में सरकार विषय पर रखे अपने विचार

In the competition organized by Synergy Institute, the youth put their views on the subject of government in the interests of the workers
X
In the competition organized by Synergy Institute, the youth put their views on the subject of government in the interests of the workers

दैनिक भास्कर

May 27, 2020, 07:06 AM IST

हरदा. मजदूराें के हिताें में सरकार विषय पर मंगलवार को ऑनलाइन वाद-विवाद प्रतियोगिता सिनर्जी संस्था ने आयोजित की। इसमें काेराेना संक्रमण के दाैरान देश में लॉकडाउन के कारण मजदूरों काे सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ा। इसमें सरकार के पक्ष एवं विपक्ष में प्रतियोगियों ने अपने-अपने विचार रखे। पक्ष में प्रतियोगियों ने कहा कि लॉकडाउन में नाैकरी जाने व महामारी में क्वारेंटाइन के डर तथा जानकारी की कमी के अभाव में मजदूर याेजनाओं का लाभ नहीं उठा पाए। उनके लिए भाेजन, आश्रय स्थल, श्रमिक ट्रेनें, बस की व्यवस्था सरकार की अाेर से की जा रही थी। 
विपक्ष में युवाओंं ने कहा कि समय रहते सरकार ने मजदूरों के बारे में नहीं साेचा। लॉकडाउन की घोषणा के पूर्व मजदूरों की सुरक्षा व घर वापसी की तैयारियों में कमी थी। इसी वजह से उन्हें परेशान हाेना पड़ा। प्रतियोगिता में विजेताअाें की ऑनलाइन घोषणा की। प्रतियोगिता में हरदा व बैतूल जिले के 12 से अधिक युवाओंं 
ने हिस्सा लिया।
ये रहे विजेता : प्रतियोगिता के निर्णायक अधिवक्ता श्याम साक्कले, निजी काॅलेज की संचालक अभिलाषा सिंहल एवं सामजिक कार्यकर्ता राजेश वर्मा थे। उन्होंने ऑनलाइन निर्णय की घोषणा की। इसमें प्रथम गौरव दशाेरे, द्वितीय आनंद शर्मा व तीसरा स्थान गोविंद उइके ने हासिल किया। इसी तरह दिव्यांशी विश्वकर्मा व अनिल सरेयाम काे प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया।

पक्ष : सरकार ने बेहतर काेशिश की जानकारी नहीं हाेने से मजदूर नहीं ले पाए लाभ

पक्ष में 16 वर्षीय दिव्यांशी विश्वकर्मा ने कहा कि सरकार ने मजदूरों के लिए बस, ट्रेन, खाने की व्यवस्था की, लेकिन सही जानकारी के अभाव में और क्वारेंटाइन होने के डर से मजदूर इसका सही लाभ नहीं ले पाए। पैदल ही मजदूरों ने घर वापसी कर दी। इस कारण उन्हें दिक्कतें उठानी पड़ी। बैतूल जिले की रहने वाली 19 वर्षीय शर्मिला ने कहा कि लॉकडाउन में सरकार ने मजदूरों को 3 माह का राशन दिया, उज्ज्वला योजना में गैस सिलेंडर दिए, जनधन योजना में 5-5 सौ रुपए दिए। सरकार ने अपने स्तर मदद की बेहतर काेशिश की।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना