महंगी होगी रजिस्ट्री:बस स्टैंड से न्यू मार्केट तक जमीन की गाइडलाइन 65 फीसदी बढ़ेगी

हरदा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • औसतन 20% वृद्धि होगी, 66 नई लोकेशन के रेट तय
  • शहर की 31 लोकेशन आवासीय से व्यावसायिक में की तब्दील

जिले में पांच साल बाद सरकारी गाइड लाइन में प्रापर्टी के दाम 8 से 20 प्रतिशत तक बढ़ने जा रहे हैं। इससे आने वाले दिनाें में रियल स्टेट में अच्छे काराेबार की उम्मीद है। हरदा शहर के 31 आवासीय क्षेत्राें काे अब व्यावसायिक में तब्दील किया है। इन लोकेशन पर बाजार रेट अधिक है। इसके अलावा सबसे अधिक गाइड लाइन टिमरनी में बढ़ाई गई है।

इंदाैर-बैतूल नेशनल हाइवे पर नया बस स्टैंड से न्यू मार्केट तक प्लाट की गाइड लाइन में 65 प्रतिशत तक वृद्धि की गई है। कुल मिलाकर जिले में पुरानी 1188 लोकेशन थीं। इसमें 66 नई लोकेशन के दाम सरकारी गाइड लाइन से तय किए गए हैं। सिराली नगर पंचायत बनने के बाद इसकी 10 लोकेशन गाइड लाइन से हटा ली गई हैं।

जिले में 702 लोकेशन के रेट बढ़ाए गए हैं। इसमें कृषि भूमि की गाइड लाइन में सबसे कम वृद्धि हुई है। शुक्रवार शाम काे कलेक्ट्रेट में जिला मूल्यांकन समिति की बैठक हुई। इसमें टिमरनी विधायक संजय शाह, कलेक्टर संजय गुप्ता और रजिस्ट्रार दिनेश काेसले और सब रजिस्ट्रार बायएस निंगवाल ने गाइड लाइन के अनंतिम दराें का अनुमोदन किया। लाेगाें के अवलाेकन के लिए दर एसडीएम कार्यालय हरदा, उप पंजीयक हरदा, टिमरनी में मौजूद है। काेई भी व्यक्ति 17 मार्च शाम 4 बजे तक अपने सुझाव दे सकता है।

पिछले साल 20% कम किए थे दाम

पिछले साल शासन ने जिले में गाइड लाइन 20% तक कम की थी। इसके बाद इस साल फिर समिति ने औसत 20% प्रतिशत तक दाम बढ़ाने की अनुंशसा की है। इसके बाद जमीन के रेट पिछले साल के बराबर आने की उम्मीद है। हालांकि, इंदाैर-बैतूल नेशनल हाइवे, हाेशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाइवे और मुख्य मार्गाें से लगी अधिकांश जमीनों की कीमतें गाइड लाइन से अधिक हैं।

17 नए गांव जोड़े, जमीनों के बढ़ेंगे दाम

जिले के प्रधानमंत्री ग्राम सड़क याेजना से जुडे जिले के 17 गांवाें की नई लोकेशन गाइड लाइन में शामिल की गई है। इसमें हंडिया का 1, टिमरनी के 6 और रहटगांव के 10 गांव शामिल हैं। इनमें लाखाखेड़ी, जलाेदा, खाेड्याखेड़ी, माथनी, गाैसर, पीपल्या कलां, अन्यागांव, देवास सहित अन्य गांव शामिल हैं।

बायपास नई लाेकेशन, शहर के विकास काे मिलेगी नई दिशा

शहर के बाहर से निकलने वाले हरदा-टिमरनी बायपास पर चार नई लोकेशन तय की है। इसमें 5 काॅलाेनी हरदा व एक काॅलाेनी टिमरनी की शामिल है। जानकारी के मुताबिक छाेटी हरदा, अबगांव, उड़ा, हरदा शहर व टिमरनी की भायली व सामरधा में नए सिरे से गाइड लाइन तय की है। इससे से शहर के विकास काे नई दिशा मिलेगी। हालांकि, वर्तमान में भी इस क्षेत्र में सरकारी रेट से बाजार रेट अधिक हैं। अब और अधिक दाम बढ़ने के आसार हैं।

जिले में सबसे महंगा क्षेत्र घंटाघर, इसके बाद टिमरनी का बस स्टैंड
जिले में सबसे महंगी जमीन घंटाघर बाजार क्षेत्र में है। इसके बाद टिमरनी नया बस स्टैंड के आसपास है। नई गाइड लाइन में सबसे अधिक रेट टिमरनी बस स्टैंड से लेकर न्यू मार्केट राेड के बढ़े हैं। इस क्षेत्र में 65 प्रतिशत तक वृद्धि की गई है। हालांकि, अब भी टिमरनी नया बस स्टैंड में प्लाट की कीमत घंटाघर से कम है। घंटाघर पर सरकारी रेट 55 से 56 हजार रुपए वर्गफीट है। टिमरनी में उक्त लोकेशन पर 30 से 45 हजार रुपए वर्गफीट के रेट हैं।

स्टेशन, अस्पताल चौक, साईं मंदिर क्षेत्र की जमीन होगी महंगी

हरदा शहर की 31 लोकेशन व्यवसायिक में तब्दील हाे गई है। इससे इन क्षेत्राें की कीमतों में अच्छा उछाल आने की उम्मीद है। इनमें घंटाघर से रेलवे स्टेशन, नया बस स्टैंड से अस्पताल चाैराहा, चाड़क चाैराहा से साईं मंदिर, नई सब्जी मंडी से परशुराम चाैक की मुख्य मार्गाें का क्षेत्र शामिल है।

17 मार्च तक सुझाव के बाद केंद्रीय मूल्यांकन समिति लगाएगी अंतिम मुहर

^जिला मूल्यांकन समिति की बैठक में नई गाइड लाइन के हिसाब से रेट तय किए हैं। इस पर लाेगाें से सुझाव भी मांगे गए हैं। 17 मार्च तक सुझाव लिए जाएंगे। इसके बाद केंद्रीय मूल्यांकन समिति की बैठक में अंतिम मुहर लगेगी।
बायएस निंगवाल, सब रजिस्ट्रार, हरदा

खबरें और भी हैं...