पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बलराम जयंती:भगवान बलराम ने सबसे पहले चलाया हल, इसलिए पूज्य

हरदा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम में माैजूद किसान। - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम में माैजूद किसान।

भगवान बलराम ने बंजर भूमि पर खेती से अन्न उपजाने के लिए सबसे पहले हल चलाया। यह कारण है कि उन्हें किसानाें का आराध्य देव माना और इसी रूप में उनका पूजन किया जाता है। यह बात भारतीय किसान संघ के जिला प्रभारी याेगेंद्र भांबू ने कही। वे रविवार काे बलराम जयंती के माैके बलराम चाैक पर आयाेजित कार्यक्रम में किसानाें काे संबाेधित कर रहे थे। उन्हाेंने कहा कि धरती हम सबकी माता है।

जिसके काेख से अन्न पैदा हाेता है, जिससे मानव जीवन और हमारी सभ्यता, संस्कृति हमारी पहचान जीवित है। अन्य वक्ताओं ने कहा कि जिस तरह हम अपनी सेहत का ध्यान रखते हैं, उसी तरह हमें धरती माता की सेहत का भी ध्यान रखने की जरूरत है। जिससे वह सालाें साल सुरक्षित रहे।

किसानाें ने जैविक खेती काे बढ़ावा देने पर भी अपने विचार रखे। आने वाले दिनाें में जिले की सभी ग्राम इकाई में बलराम जयंती उत्सव मनाया जाएगा। इसके लिए कार्यकर्ताओं काे जिम्मेदारी दी। इससे पहले सभी ने बलराम चाैक पर भगवान बलराम के प्रतीक चिन्ह का पूजन कर प्रसाद वितरित किया। इस दाैरान संघ के सभी पदाधिकारी व किसान माैजूद रहे।

खबरें और भी हैं...