तकनीकी समस्या:कॉलेज में ऑनलाइन एडमिशन के लिए नहीं आ रहा ओटीपी

हरदा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 12 सत्यापन अधिकारी कर रहे त्रुटि सुधार, प्रक्रिया में लग रहा एक घंटे से अधिक का समय

सर्वर डाउन होने से कॉलेजों में ऑनलाइन एडमिशन प्रक्रिया में छात्र-छात्राओं काे परेशानी हो रही है। नई शिक्षा नीति के तहत एडमिशन प्रक्रिया में बदलाव के कारण तकनीकी गड़बडिय़ों के कारण पहले चरण में शामिल स्टूडेंट्स काे एक से दाे घंटे इंतजार करना पड़ता है। पोर्टल पर अंकसूची, फाेटाे अपलोड करने में ही दिक्कतें आती है। मोबाइल पर ओटीपी आने में 15-15 मिनट का समय लग रहा है।

इसके बाद वेरिफिकेशन में भी फाेटाे मिसमैच हाे रहे हैं। काॅलेज में वेरिफिकेशन के लिए अंकसूची पोर्टल पर अपलोड नहीं हाे पाती। इससे काॅलेज में वेरिफिकेशन में भी दिक्कतें आ रही है। इसी के चलते काॅलेज में 12 सत्यापन अधिकारी वेरिफिकेशन में लगाए गए हैं। त्रुटि हाेने पर छात्र-छात्राओं काे सत्यापन अधिकारी खुद काॅल कर जानकारी दे रहे हैं। इससे घंटाें का इंतजार खत्म हाे गया है।
सिंगल स्लॉट में रिजल्ट अपलोड करना मुश्किल : इस बार ऑनलाइन अंकसूची में केवल एक सेमेस्टर के अंक। तीसरे सेमेस्टर की अंकसूची में भी केवल एक ही सेमेस्टर के अंक हैं। पोर्टल पर सिंगल अंकसूची का स्लॉट होने के कारण अंकसूची प्रस्तुत नहीं हो पा रही है।
काॅलेज में सत्यापन अधिकारी कर रहे हेल्प
स्वामी विवेकानंद शा. काॅलेज में पहले 7 सत्यापन अधिकारी थे। दिक्कतों काे देखते हुए 12 कर दिए हैं। छात्र-छात्राओं के कागज वेरिफिकेशन में आ रही दिक्कतों काे लेकर सत्यापन अधिकारी छात्राें की काउंसलिंग कर रहे हैं। उन्हें मोबाइल पर काॅल कर त्रुटि सुधार की जानकारी दे रहे हैं। इससे छात्राें काे काॅलेज में इंतजार नहीं करना पड़ रहा।

दस्तावेज अपलोड करने में लग रहा एक घंटा
सर्वर धीमा चल रहा है। इस कारण दस्तावेज अपलोड करने में 1 घंटे से अधिक समय लग रहा है। यही नहीं उन छात्रों से भी आय का प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है, जो स्कॉलरशिप के पात्र नहीं हैं। जाति, मूल निवासी जैसे प्रमाण पत्रों पर भी असमंजस है। एमपी ऑनलाइन सेंटर और कॉलेजों का कहना है दस्तावेज ज्यादा संख्या में होने के कारण यह दिक्कत आ रही है।

भीड़ न लगे इसलिए अधिकारी वेरिफिकेशन कर रहे हैं
सर्वर की समस्या हाे सकती है। वेरिफिकेशन के लिए काॅलेज में छात्राें की भीड़ नहीं लगे इसके लिए 12 प्राध्यापकों काे सत्यापन अधिकारी बनाए गए हैं। सत्यापन अधिकारी छात्राें काे काॅल कर त्रुटि सुधार कराते हैं। जरूरत पड़ने पर छात्राें काे काॅलेज बुलाया जाता है।
डाॅॅ. प्रभा साेनी, प्राचार्य, विवेकानंद काॅलेज हरदा

खबरें और भी हैं...