पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Harda
  • Pipes At The Entrance Of The Sanctum Sanctorum After The Decoration At The Gupteshwar Temple, Live Viewing On Facebook To Reduce The Crowd Of Devotees At Omkareshwar Temple

गर्भगृह में प्रवेश पर राेक:गुप्तेश्वर मंदिर में शृंगार के बाद गर्भगृह के द्वार पर लगाए पाइप, ओंकारेश्वर मंदिर में श्रद्धालु की भीड़ कम करने के लिए फेसबुक पर कराए लाइव दर्शन

हरदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • काेराेना संक्रमण के चलते सावन के पहले साेमवार को शिव मंदिरों में नियंत्रण में रही श्रद्धालुओं की संख्या
Advertisement
Advertisement

काेराेना संक्रमण की वजह से सावन के पहले साेमवार काे शिवालयाें में श्रद्धालुओं की भीड़ कम रही। मंदिराें में भी श्रद्धालुओं काे संक्रमण से बचाने के लिए विशेष इंतजाम किए गए। अजनाल नदी किनारे स्थित गुप्तेश्वर महादेव मंदिर, एलआईजी काॅलाेनी स्थित ओंकारेश्वर महादेव मंदिर, मंडी के पंचपिपलेश्वर महादेव मंदिर सहित अन्य शिवालयाें में श्रद्धालुओं के गर्भगृह में प्रवेश पर राेक लगा दी।

सुबह शिवलिंग पर जल गर्भगृह के बाहर से ही चढ़ाने की व्यवस्था की थी। गुप्तेश्वर मंदिर में दाेपहर में विशेष श्रृंगार के बाद गर्भगृह के द्वार पर स्टील के पाइप लगाकर श्रद्धालुओं का प्रवेश राेक दिया गया। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ काे राेकने के लिए फेसबुक पेज पर लाइव प्रसारण कर भगवान के दर्शन कराए गए। 
501 कमल के फूल से सजाए ओंकारेश्वर महादेव : एलआईजी काॅलाेनी स्थित ओंकारेश्वर महादेव मंदिर में भी गर्भगृह में श्रद्धालुओं काे प्रवेश नहीं दिया गया। सुबह विशेष अभिषेक, पूजन व महाआरती हुई। इसमें साेशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखा गया। मंदिर काे सैनिटाइज किया गया। दाेपहर में 501 कमल के फूलाें से भगवान का आकर्षक श्रृंगार किया गया। इसके बाद मंदिर के द्वार पर टेबल लगाकर बंद कर दिया गया। विनाेद जाेशी, गिप्पी अग्रवाल, अनिल राव मराठा, विष्णु त्रिवेदी, गिरधार चाैबे करीब दाे घंटे तक 501 फूलाें से भगवान भाेलेनाथ का श्रृंगार किया। श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए इसका लाइव प्रसारण भी किया गया।

गुप्तेश्वर मंदिर में गर्भगृह में पुजारी और तीन अन्य लाेगाें ने की पूजा
सावन के पहले साेमवार काे श्रद्धालुओं की भीड़ कम रही। गर्भगृह के बाहर से ही जल चढ़ाने की व्यवस्था की गई। काेराेना के चलते मंदिर में प्रसाद व पंचामृत भी नहीं बांटा गया। सुबह पुजारी के साथ तीन अन्य श्रद्धालुओं ने 12 ज्याेर्तिलिंग व गर्भगृह में महाभिषेक, पूजन व आरती की। इसके बाद दाेपहर में महाकाल के रूप में शिवलिंग काे सजाया गया। मंदिर काे सुबह व शाम काे सैनिटाइज किया जा रहा है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement