पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संक्रमण कम हाेने का असर:पाॅलीटेक्निक के हॉस्टल का काेविड केयर सेंटर बंद, अस्पताल कैंपस का रहेगा चालू

हरदा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
3,03 हरदा। बंद हुआ काेविड केयर सेंटर। - Dainik Bhaskar
3,03 हरदा। बंद हुआ काेविड केयर सेंटर।
  • संक्रमित बढ़े ताे सेंटर दाेबारा शुरू करने लगेगी सरकार की अनुमति

काेराेना से बचाव के लिए अभी केवल वैक्सीन तैयार हुई है, जनता तक यह कब पहुंचेगी, यह स्पष्ट नहीं है। इस बीच अपर संचालक आईडीएसपी, संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं ने मप्र के सभी काेविड केयर सेंटर बंद करने के कलेक्टर व सीएमएचओ काे आदेश जारी कर दिए हैं। ज्यादातर जिलाें में यह पत्र मिलने के बाद काेविड केयर सेंटर बंद कर दिए गए हैं। हरदा में भी पॉलीटेक्निक के हॉस्टल का काेविड केयर सेंटर किया बंद कर दिया गया है। केवल अस्पताल कैंपस का सेंटर चालू रखा गया है। जिला अस्पताल में करीब 60-80 लाेगाें काे रखने की व्यवस्था है।

काेराेना संक्रमितों की संख्या बढ़ने पर इन्हें दाेबारा शुरू करने से पहले राज्य स्तर से अनुमति लेनी पड़ेगी। काेराेना के संक्रमण से सुरक्षा के लिए वैक्सीन तैयार हाेने के बाद सरकार ने प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के स्तर पर संक्रमितों के इलाज के लिए खाेले गए काेविड केयर सेंटर बंद करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। गाइड लाइन में संशोधन के साथ अनलॉक की प्रक्रिया भी हाे चुकी है।

लेकिन जमीनी धरातल पर गाइड लाइन का न ताे पालन हाे रहा है और न ही प्रशासन खुद इसे जरुरी समझ रहा है। ऐसे में दाे गज की दूरी व मास्क की सैनिटाइजर की अनिवार्यता के आदेश केवल सरकारी कागजों तक ही सिमटकर रह गए हैं। सरकार के इस निर्णय से लाेगाें की चिंता और बढ़ गई है। बदलते माैसम में अब हर व्यक्ति काे अपनी सुरक्षा पर अतिरिक्त ध्यान देने की जरुरत है।

अस्पताल में जारी रहेगा इलाज, गंभीर मरीज ही रखेंगे
काेविड की शुरुआत के साथ ही प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में आईसीयू और काेविड केयर कमांड सेंटर शुरू किए थे। इनका संचालन अस्पताल प्रबंधन द्वारा किया जा रहा है। संक्रमितों की संख्या बढ़ने पर सभी जिलाें में अतिरिक्त काेविड केयर सेंटर हॉस्टल व अन्य सरकारी भवनाें में वैकल्पिक ताैर पर शुरू किए थे। इन्हें बंद करने के बाद अस्पताल में लक्षण वाले गंभीर राेगी रखे जाएंगे।

सतर्कता अब अपने हाथाें में : लापरवाही छाेड़, अब रहना हाेगा अलर्ट
बाजार, हाेटलाें, बैठकों व अन्य ऐसे आयाेजन जिनमें भीड़ जुटती है, वहां गाइड लाइन का पालन न ताे आयोजक जरुरी समझते हैं और न ही इसकी प्रशासनिक मानिटरिंग के इंतजाम हैं। उत्सवी माहाैल में ज्यादातर लाेग अपनी मस्ती में खाे जाते हैं। ऐसे में किसी एक संक्रमित व्यक्ति की मौजूदगी अन्य लाेगाें की जान भी खतरे में डाल सकती है।

अस्पताल के जिला काेविड कमांड केयर सेंटर में 60 से 80 राेगी रह सकते हैं
मरीजाें की संख्या बढ़ने पर अस्पतालों के अलावा ट्रिपल सी यानि काेविड केयर सेंटर शुरू किए गए थे। इनमें सामान्य व लक्षण रहित राेगी रखे जाते थे, जिससे औराें में संक्रमण न फैले। शासन लगातार स्थिति की समीक्षा कर निर्णय लेता है। अब ट्रिपल सी में राेगियाें की संख्या कम हाेने लगी है। इस कारण शासन के आदेश पर पॉलीटेक्निक का सेंटर बंद किया है। -डाॅ. मनीष शर्मा, नाेडल अधिकारी, अस्पताल, हरदा

यह है आदेश
संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं सतपुड़ा भवन भाेपाल मप्र द्वारा अपर संचालक आईडीएसपी के हवाले से 31 दिसंबर काे जारी पत्र क्रमांक आईडीएसपी/2020/ 2110 के अनुसार काेविड 19 की वर्तमान स्थिति तथा अधिकतर काेविड केयर सेंटर की न्यून बैड आक्यूपेंसी काे देखते हुए नीतिगत निर्णय अनुसार मप्र के सभी काेविड केयर सेंटर (भाेपाल काे छाेड़कर काे)1 जनवरी 2021 से बंद किया जाता है। भविष्य में काेविड 19 से संक्रमित मरीजों की संख्या में वृद्धि हाेने पर जिलाें द्वारा काेविड केयर सेंटर खाेले जाने के लिए विशिष्ट अनुमति राज्य स्तर से प्राप्त की जाए। भाेपाल के लिए पूर्व में दी गई मंजूरी के अनुसार काेविड केयर सेंटर का संचालन तय प्राेटाेकाॅल के अनुसार जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें