पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फसल खराब:बारिश में खराब हुई सोयाबीन की फसल, नहीं निकल पा रही है लागत

हरदा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बारिश और फंगस के कारण इस साल सोयाबीन की फसल पूरी तरह खराब हो गई। जिले में कहीं-कहीं एक से 2 क्विंटल एकड़ उत्पादन हुआ है, लेकिन मंडी में इसके इतने दाम भी नहीं मिल पा रहे हैं कि किसानों की लागत निकल सकें। बुधवार को 5182 क्विंटल सोयाबीन की आवक हुई। इसका न्यूनतम भाव 1800 रुपए क्विंटल और अधिकतम भाव 3860 रुपए रहा। अन्य उपज की भी यही स्थिति है, लेकिन रुपयों की जरूरत और रवी सीजन की फसल की बोवनी की तैयारी के कारण किसान कम दाम में उपज बेच रहे हैं।

बुधवार को मंडी में 11162 क्विंटल की आवक हुई। इसमें 5182 क्विंटल यानी सर्वाधिक आवक सोयाबीन की हुई। मूंग की आवक 3964 क्विंटल रही। यह 3651 से 8192 क्विंटल बिका। गेहूं की आवक 1026 क्विंटल रही। यह न्यूनतम 1360 रुपए प्रति क्विंटल बिका और अधिकतम दाम 1950 क्विंटल रहे। चना की आवक 168 क्विंटल रही। यह 4400 से 5100 रुपए प्रति क्विंटल बिका। 1 क्विंटल सरसों और ज्वार दो-दो कुंटल आवक रही। मक्का की आवक 507 क्विंटल रही यह 700 से 1169 रुपए प्रति क्विंटल बिका।

खबरें और भी हैं...