पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कला का निखार:युवक ने ग्रामीणों काे सिखाए नाटक के गुर, सिंगाजी के पद्य गाकर किया मंचन

हरदा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक माह में गांव ने देखी उभरते कलाकारों की प्रतिभा
  • कुकरावद में पद्य गाकर सर्द रात में किया मंचन

मध्यप्रदेश नाट्य विद्यालय से एक माह के लिए प्रोजेक्ट पूरा करने गांव आए एक युवक ने कुकरावद में ग्रामीणों में छिपी प्रतिभा काे निखारा। उन्हें लाेक कला व लाेक संगीत की बारीकियां तथा अभिनय के सरल टिप्स बताए। गुरुवार की सर्द रात में संत सिंगाजी के निर्गुण पदाें के गायन पर नाटक का मंचन हुआ।

गांव के कई कला प्रेमी इसके साक्षी बने। खास बात यह थी कि इसमें करीब 30 लाेगाें ने सहयोग किया। लगभग 17 लाेगाें ने मंच पर अभिनय किया। आध्यात्म पर केंद्रित नाटक में संदेश दिया कि जिस दिन-रात मेहनत के बाद खेताें में भरपूर अन्न पैदा हाेता है वैसे ही हरिनाम की खेती करने से पुण्य व ईश्वर मिलते हैं।

25-30 ग्रामीणों ने करीब 1 घंटा 15 मिनट तक किया नाटक का मंचन

मप्र नाट्य विद्यालय से पढ़े नरसिंहपुर के अंशुल दुबे एक माह के लिए कुकरावद अाए। उन्हें अपने निर्देशन काैशल काे साबित करना था। उन्होंने लाेक कला, लाेक संगीत व नाटक गायन अादि में रुचि रखने वालाें काे तलाशा। इनमें से 25-30 लाेगाें की टीम तैयार की। राेज गांव में रिहर्सल हाेती रही। गुरुवार रात काे ग्रामीणों के बीच करीब 1 घंटा 15 मिनट नाटक का मंचन हुअा। सिंगाजी महाराज के जीवन व ग्रामीण भाषा में कहे उनके निर्गुण पदाें पर केंद्रित नाटक में गांव के 17 कलाकार मंच पर अाैर शेष पर्दे के पीछे रखे गए। सभी ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

खेती खेड़ाे रे हरिनाम की नाटक कर अभिनय और गायन प्रतिभा दिखाई

अशाेक गुर्जर बताते हैं कि गांव में गणगाैर में लाेग स्वांग रचते हैं। वे गायन व अभिनय भी करते हैं। ऐसे ही युवाओं की टीम ने खेती खेड़ाे रे हरिनाम की नाटक में अपनी अभिनय व गायन प्रतिभा दिखाई। संस्कृति में रुचि रखने वाले गुर्जर के अनुसार सिंगाजी महाराज ने ठेठ ग्रामीण बाेली में अपनी बातें कहीं।

लाेक संगीत की मदद से लाेक व्यवहार की इन बाताें काे कलाकारों ने निर्गुण धारा में प्रस्तुत किया। सिंगाजी से जुड़े लाेग उन्हें संत मानते हैं। उनके शिष्य उन्हें गुरु व ईष्ट मानते हैं। साहित्यकार उन्हें लाेक कवि का दर्जा देते हैं, क्याेंकि उन्होंने कई रचनाएं व पद्य लिखे। मंचित नाटक में हरिनाम की तुलना खेती से की गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उत्तम व्यतीत होगा। खुद को समर्थ और ऊर्जावान महसूस करेंगे। अपने पारिवारिक दायित्वों का बखूबी निर्वहन करने में सक्षम रहेंगे। आप कुछ ऐसे कार्य भी करेंगे जिससे आपकी रचनात्मकता सामने आएगी। घर ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser