पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसानों को कर रहे जागरूक:नरवाई ना जलाने का संदेश लेकर 10 दिनों में 35 गांव पहुंचे दिव्यांग भजन गायक, 3 गांवों ने माना, नहीं जलाई

इटारसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सनखेड़ा में प्रचार करते आलोक। - Dainik Bhaskar
सनखेड़ा में प्रचार करते आलोक।
  • दाे साल पहले नरवाई की आग से घिरे और बमुश्किल बचे, तब से जागरूक करने की ठानी

नरवाई की आग से व्यथित पुरानी इटारसी वार्ड 6 निवासी भजन गायक आलोक शुक्ला (48) ट्राइसाइकिल से पिछले 10 दिनों में 35 गांवों की दूरी नाप चुके हैं। उनकी मेहनत का नतीजा है बह्मनगांव, मोथिया और सनखेड़ा में नरवाई जलाना बंद हो गया है। मां के बेटे जागरण समिति चलाने वाले आलोक बचपन से दोनों पैरों से दिव्यांग हैं। वे ट्राइसाइकिल लेकर गांव के हाट और चौराहे पर खड़े हो जाते हैंं।

वे ट्राइसाइकिल में लगे बैटरी वाले चोंगे से नरवाई की आग से होने वाले नुकसान बताते हैं। किसानों से बात करते हैं। लगभग 130 से अधिक किसान वचन दे चुके हैं कि वे जानबूझकर नरवाई नहीं जलाएंगे। आलोक ने बताया पहले लोगों ने मजाक उड़ाया। पत्नी चन्द्रकला शुक्ला, मां नीलिमा शुक्ला और 13 साल की बेटी आन्या ने उनका हौसला बढ़ाया।

यह बदलाव : इन गांवों में अब कोई नहीं जलाता नरवाई
बम्हनगांव के किसान शैलेंद्र चौरे ने कहा- मां के बेटे आलोक गांव में आकर देवी का जागरण करते हैं। ग्रामीण उनके भजन सुनते हैं, इसलिए उनकी नरवाई नहीं जलाने की बात मान रहे हैं। उनके गांव में अभी किसी खेत में नरवाई नहीं जलाई गई। मोथिया गांव के संचित पटेल और सनखेड़ा के बृजेश चौरे ने बताया आलोक के गांव में आने से फर्क पड़ा है, इस बार किसी के खेत में नरवाई नहीं जलाई।

तबाही आज तक नहीं भूल पाए: आलोक शुक्ला ने बताया दो साल पहले अप्रैल को पांजरा, लोहारिया और ग्वाड़ी, तारारोड़ा गांव नरवाई की आग से घिर गए थे। दूसरे दिन पांजरा जाकर तबाही देखी तो सिहर गया। तब विचार आया कि खुद ग्रामीणों से नरवाई नहीं जलाने की विनती करूंगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें