पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हेराफेरी:पीओएस से 100 बोरी के बिल कई बार काटे, हस्ताक्षर भी नहीं कराए

इटारसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों को गलत तरीके से यूरिया बांटने व कालाबाजारी उजागर - Dainik Bhaskar
किसानों को गलत तरीके से यूरिया बांटने व कालाबाजारी उजागर
  • किसानों को गलत तरीके से यूरिया बांटने व कालाबाजारी उजागर

किसानों को गलत तरीके से यूरिया बांटने और कालाबाजारी की पोल खुल गई है। इस धांधली का जांच प्रतिवेदन इटारसी एसडीएम ने जिला पंचायत सीईओ (अपर कलेक्टर विकास) होशंगाबाद को गुरुवार को भेजा। इसकी प्रति कलेक्टर व उप संचालक कृषि को भी भेजी गई है। प्रतिवेदन में मार्कफेड गोदाम प्रभारी को गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है।

मामला नेशनल हाईवे 69 पर इटारसी मंडी के सामने मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित के कार्यालय और वेयर हाउस का है। यहां के दस्तावेज और स्टॉक की जांच करने पर यूरिया खाद बेचने में हुई धांधली सामने आ गई। कलेक्टर कार्यालय से टॉप 20 यूरिया वायर के किसानों के दस्तावेज जांच करने का पत्र छह नवंबर को जारी हुआ था।

इसके बाद 4 सदस्यीय निरीक्षण टीम गठित की गई थी। इसमें कृषि विभाग से उपसंचालक रीता उइके, अर्चना परते, आरएल जैन व बीएस राजपूत शामिल थे। एसडीएम मदन रघुवंशी ने बताया कि मार्कफेड गोदाम से यूरिया खरीदने वाले 22 किसानों की सूची तैयार की गई। किसानों के लिखित कथन लिए गए। दस्तावेजों के साथ स्थल जांच करने पर अनियमितता उजागर हुई।

जांच में यह पुष्टि हुई है कि गोदाम प्रभारी रामसिया गुप्ता ने सरकारी नियमों को अनदेखा कर यूरिया गलत तरीके से बांटा। यह कालाबाजारी जैसा कृत्य है। प्रमाणिक दस्तावेज होने से गोदाम प्रभारी कुछ कहने की स्थिति में नहीं है।

पात्रता से अधिक विक्रय
जिस किसान की पात्रता 10 बोरी यूरिया लेने की थी, पीओएस मशीन के अनुसार उसे 503 बोरी यूरिया दे दी गई। इटारसी के मुकेश साहू को 6 की जगह 200 बोरियां बेच दी गई। घाटली के विजय कुमार चिमानिया को पात्रता 8 बोरी की थी। उन्होंने 80 बोरी खरीदी किंतु पीओएस मशीन पर 200 बोरी चढ़ा दी गईं। इटारसी के रचिन पिता अजय अग्रवाल व राहुल यादव को 36 हेक्टेयर पर 100 बोरियां ज्यादा दे दी गईं।

इन किसानों के फर्जी पते

गांव व शहर का फर्जी पता डालकर किसानों को 200- 300 बोरियां तक यूरिया बेचनी बताई गई। इनमें इटारसी के संजय साहू, पुरुषोत्तम, मनीराम साहू, मुकेश साहू, योगेश यादव, चंद्रपुरा के रामदास यदुवंशी, टेमला कला के रामदीन कलमे तथा धुरपन के अजय सिंह हैं जो दर्शाए गए पते के नहीं पाए गए।

मिली ये 4 गड़बड़ियां

  • विक्रय रजिस्टर व बिल बुक में किसानों के हस्ताक्षर नहीं लिए गए। उनके द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों की जानकारी भी नहीं है।
  • शासकीय निर्देशों की अनदेखी कर भूमिहीन व्यक्तियों को यूरिया बेचा गया है।
  • जिले से बाहर वाले व्यक्तियों को भी उर्वरक बेचा गया है शासकीय विक्रय केंद्रों से सिर्फ जिले के किसानों को ही बेचा जाना था।
  • पीओएस मशीन से एक ही मात्रा (100 बोरी) के बिल कई बार काटे गए हैं। प्रथम दृष्टव्या अनियमितता दिख रही है।

इन किसानों ने खाद लिया ही नहीं

सनखेड़ा के किसान राजेश साहू और चाँदोन के पंकज नागा ने संस्था से खाद खरीदा ही नहीं किंतु उनके नाम पर क्रमशः 333 और 200 बोरियों की खरीदी बताई गई।

टेमला कला गांव के पीयूष राठौर और इटारसी के रोहित गौर के नाम पर खेती की जमीन ही नहीं है। इनको क्रमशः 235 व 385 बोरियां दे दी गईं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser