अनदेखी अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान:दुकानदार हाे रहे परेशान, अव्यवस्थाओं के बीच लगता है हाट बाजार

खिरकियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खिरकिया। अधूरा पड़ा हाट बाजार का काम। - Dainik Bhaskar
खिरकिया। अधूरा पड़ा हाट बाजार का काम।

नगर में लगने वाले साप्ताहिक हाट बाजार का निर्माण करीब एक साल से अधर में लटका हुआ है। 82.18 लाख रुपए की लागत से 0.82 एकड़ में बन रहे हाट बाजार का काम बंद है। ओटले बन चुके हैं। इसके बाद काम बंद है। जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे साप्ताहिक बाजार में दुकान लगाने वाले दुकानदाराें काे दिक्कताें का सामना करना पड़ रहा है। नगर परिषद द्वारा कराए जा रहे हाट बाजार का कार्य लेटलतीफी की भेंट चढ़ा हुआ है। बाजार लंबे समय से निर्माणाधीन है। इससे बाजार में आने वाले दुकानदाराें काे परेशानियाें का सामना करना पड़ता है। बाजार के भूमि हस्तांतरण, प्रस्ताव और भूमिपूजन के बाद नगर परिषद ने तेजी दिखाते हुए काम शुरु किया, लेकिन अब काम बंद है। हाट बाजार में जमीनी काम करीब-करीब पूरा हाे चुका है। दुकानदारों के लिए ओटले बनाए जा चुके हैं। इसके बाद यह काम अटका हुआ है। हाट बाजार का काम शुरू हाेने के बाद दुकानदाराें काे उम्मीद थी, लेकिन अब उनमें निराशा है।

ओटलों का निर्माण कर भूली नप, अब तक नहीं लगे टीन शेड
बाजार में निर्माण शुरू हाेने के बाद तेजी दिखाई। लेकिन अब नगर परिषद हाट बाजार का काम पूरा नहीं करा पाई। करीब एक साल पहले ओटलों का निर्माण पूरा किया। अब टीन शेड सहित अन्य व्यवस्था की जाना है, लेकिन काम में तेजी नहीं लाई जा रही है। टीन शेड नहीं लगने से बाजार अभी अनुपयोगी है। इसके बाद बिजली, पानी, शौचालय सहित अन्य व्यवस्था भी बाकी हैं। सुविधाएं नहीं हाेने से दुकानदाराें व गांवाें से खरीदी के लिए आने वालों काे दिक्कताें का सामना करना पड़ता है।

किल्लौद, हरसूद के लाेग भी खरीदी के लिए आते हैं साप्ताहिक बाजार
खिरकिया में पुलिस चाैकी के सामने व गाेमुख मार्ग की खाली पड़ी जमीन पर साप्ताहिक हाट बाजार का निर्माण कराया जा रहा है। साप्ताहिक बाजार में तहसील के अलावा खंडवा के किल्लाेद व हरसूद के लाेग भी खरीदी के लिए आते हैं। इसके अलावा साप्ताहिक बाजार में दुकान लगने से राेजगार बढ़ा है। लेकिन सुविधाओं की कमी के चलते ग्राहकों की संख्या में भी कमी नजर आई है।

निर्माण की दरकार, ताकि सुधर सके बाजार के हाल
हाट बाजार का निर्माण अब अधर में लटका हुआ है। दुकानदार व ग्राहकाें दाेनाें काे सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। शेड नहीं बनने से दुकानदाराें काे खुले अासमान के नीचे दुकानें लगाना पड़ रही है। इससे उन्हें परेशान हाेना पड़ता है। बिजली, पानी, सड़क का निर्माण भी नहीं हाे सका है। इससे ग्रामीण क्षेत्राें से आने वाले ग्राहकाें काे दिक्कतें हाेती है। लाॅकडाउन के कारण हाट बाजार पर राेक थी, लेकिन अब प्रतिबंध हट चुका है। परिषद काे शीघ्र हाट बाजार का निर्माण पूरा कराना चाहिए। शीघ्र निर्माण पूरा हाेना चाहिए, ताकि बाजार के हालात सुधर सके।

शासन से राशि आवंटन की मांग की है
साप्ताहिक हाट बाजार के लिए शासन से राशि आवंटन की मांग की गई है। राशि स्वीकृत होने पर कार्य पूर्ण कराए जाएंगे।
राजेंद्र श्रीवास्तव, सीएमओ, नपं खिरकिया

खबरें और भी हैं...