पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पोला पर्व:कोरोना के चलते सामूहिक रूप से नहीं मना पोला, खेतों से घर पहुंचे नंदी

मुलताई20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नगर में सोमवार को पोला पर्व पर नंदी (बैल जोड़ी) का सामूहिक पूजन नहीं हुआ। कोविड प्रोटोकॉल के चलते सामूहिक रूप से पोला नहीं मनाया गया। जिससे किसान खेतों से नंदी को लेकर सीधे घर पहुंचे। घरों पर ही नंदी का पूजन कर पोला पर्व मनाया गया। नगर में महाराष्ट्रीयन पंडितों ने नंदी को हनुमान मंदिर ले जाकर पूजन कर पोला पर्व की परंपरा निभाई। किसानों ने बैलजोड़ी को आकर्षक रूप से सजाया और घर पर पूजन किया। कुछ गांवों में किसान मैदान पर पहुंचे और नंदी का पूजन कराकर लौट गए।

डहुआ के मनोज बारंगे ने बताया किसान बैल जोड़ी लेकर गांव के हनुमान मंदिर पहुंचे। बैलजोड़ी का पूजन कर घर लौट गए। ग्राम धाबला के रवि बारस्कर ने बताया गांव में सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए पोला पर्व मनाया गया। सबसे सुंदर बैलजोड़ी सजाने वाले को इनाम दिया गया। क्षेत्र में हर साल पोला पर्व धूमधाम से मनाया जाता है।

पोला पर्व पर किसान बैल जोड़ी का शृंगार करते हैं। मैदान पर किसान अपनी बैल जोड़ी लेकर पहुंचते थे। मैदान पर तोरण (आम के पत्तियों से बंधी रस्सी) के नीचे नंदियों को कतार में खड़ा कर पूजन किया जाता था। पूजन के बाद तोरण तोड़कर किसान नंदी को दौड़ाते हुए घर ले जाते हैं। कोविड प्रोटोकॉल के चलते इस साल ऐसा कुछ नहीं हुआ।

खबरें और भी हैं...