पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कवि सम्मेलन:कवि ने बेटियों पर प्रस्तुत की कविता- न टूटना ना चटखना चाहिए, चूड़ियां हरदम खनकना चाहिए

मुलताईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मासोद में आयोजित हुए कार्यक्रम में कवियाें ने प्रस्तुत की रचनाएं

मासोद में नवयुवक दुर्गा मंडल बाजार चौक के तत्वावधान में गुरुवार रात भारत मात मंदिर परिसर में कवि सम्मेलन हुआ। कवि सम्मेलन का शुभारंभ भाजपा जिलाध्यक्ष बबला शुक्ला, शंकरराव धोटे, गणेश ठाकुर ने भारत माता का पूजन करके किया। इसके बाद कवियों ने एक से बढ़कर एक कविता प्रस्तुत की।

देवास से आए कवि शशिकांत यादव शशि ने फूल श्रद्धा के तेरे दर पर चढ़ाने आया, गीत गोविंद के कुछ छंद सुनाने आया, जहां दोनों जहां का सरपरस्त बसता है, उसी दर पर अपने सर को झुकाने आया कविता सुनाई। शशिकांत यादव ने कविता के माध्यम से देश भक्ति और बदलते भारत की तस्वीर प्रस्तुत की।

भोपाल से आई कवियित्री संगीता सरल ने तेरी ज्योति से नूर मिलता है मां, गमे दिल को सुकून मिलता है मां, तेरी पावन चौखट पर आते ही, उनके दिल को सुकून मिलता है मां गीत प्रस्तुत किया। टिमरनी के हास्य कवि मुकेश शांडिल्य चिराग ने झील पर पानी बरसता है हमारे देश में, पानी को तरसता है हमारे देश में, कौन कहता है यहां काला रंग है खराब, काजल तो गोरी आंखों में भी लगता है कविता प्रस्तुत की।

मालेगांव से आए कवि दीपक यदुवंशी ने बेटियों पर शानदार कविता प्रस्तुत की। न टूटना ना, चटखना चाहिए, चूड़ियां हरदम खनकना चाहिए, चंपा जूही रातरानी की तरह हैं बेटियां घर-घर महकना चाहिए। कविता प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन ग्राम प्रधान भास्कर मगरदे ने किया। देर रात तक ग्रामीणों ने कविताओं का आनंद लिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें